तेज बारिश से, खेतों में लगी फसलें बर्बाद, गांवों में भराया पानी, आवागमन प्रभावित

0
565

लंबे समय बाद हुई बारिश लोगों के लिए परेशानी बनकर बरसी। 5 घंटे हुई जोरदार बारिश ने ग्रामीण अंचलों में तबाही मचा दी। खेतों में फलसें बर्बाद हुई है, तो गांवों में पानी भरने से ग्रामीण रातभर परेशान हुए। खेतों में तीन फीट तक पानी भर गया। सोयाबीन, कंपास के फूल झड़ गए। इससे फसलों का दाना कमजोर हो जाएगा। उत्पादन पर सीधे असर होगा। गन्ना और केली की फलसंे आड़ी हो गई है। अंबाड़ा, हिंगना, टीटगांवकला, सारोला, उमरदा, नेवरी, देवरी, शंकरपुरा, ड़वाली, महलगुलआरा, हनुमंतखेड़ा और सांड़स सहित अन्य क्षेत्रों में पानी ने बर्बादी की है। मकानों में बारिश का पानी घुसने से कई लोगों का किमती सामन अनाज, िबस्तर, बर्तन बह गए। परिवार के सामने खाना खाने तक की परेशानी खड़ी हो गई है।

अंबाड़ा क्षेत्र के खड़की नाले पर बनी पुलिया का नीचला हिस्सा तेज पानी के बहाव बह गया। वहीं बागनाले का रपटा भी क्षतिग्रस्त हुआ है। ग्रामीणों ने सुबह ऐसी स्थिति देखी तो तत्काल पुलिया से बड़े और भारी वाहनों की आवाजाही पर रोक लगा दी। सूचना पर 10 बजे पीडब्ल्यूडी विभाग के सुधाकर चौधरी पहुंचे। उन्होंने आरएसके कंपनी को सूचना देकर मौके पर पहुंचे मजदूरों से सुधार काम तत्काल आरंभ करवा दिया गया है। जानकारी के अनुसार गुरुवार को हुई तेज बारिश में आरएसके कंपनी द्वारा बनाए गए पुलिया का एक बड़ भाग टूट जाने से ग्रामीणों ने काम में लापरवाही का आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि यहां से आवाजाही के दौरान पुलियां में कोई बड़ी दुर्घटना हो सकती थी। कंपनी की बनाई गई अन्य पुलियों की भी जांच की जाना चाहिए। ग्रामीणों ने बताया कि बागनाले को भी क्षति पहंुची है। खड़की नाले पर बने पुल की एक ओर मिट्टी बह गई। पुलिया में 15 बाय 15 का गड्ढा हो गया है। पुलिया का बेस पूरी तरह से खत्म हो गया है। यहां से आवागमन रोक दिया है।

पुिलया का बेस बहने के बाद बड़े वाहनों की आवाजाही रोकी, सुधार कार्य शुरू किया

बारिश से खड़की नाले की पुलिया का बेस बहा।

हिंगना में पानी से खराब हुआ उचित मूल्य की दुकान में रखा खाद्यान्न।

पानी निकासी नहीं होने से बने हालात

100 मकानों में भराया पानी

नेपा-दर्यापुर सड़क की उंचाई अधिक होने से खेतों का पानी बाहर नहीं निकल पा रहा है। पानी गांव की ओर बह रहा है। गुरुवार को भी यहीं हुआ। बारिश का पानी घरों की ओर आया। पानी बस स्टैंड क्षेत्र से आंगनवाड़ी, हाट बाजार होकर घरों तक पहुंच गया। लोगों घरों में सो रहे थे। घरों में पानी घुसता देख हड़बड़ा उठे। रात 2 बजे तक सामान को बचाते रहे, तो कुछ का सामान बह गया। 100 से अधिक मकानों में पानी भरा है।

अंबाड़ा के मकान में पानी से गिरी दीवार बह गया सामान।

अस्पताल में दवा हुई खराब

हिंगना उपस्वास्थ्य केंद्र, उचित मूल्य की दुकान, टपरों में पानी भरा गया। कच्ची दीवारें िगर गई। राशन दुकान में गेंहूं, चावल, नमक, शक्कर व केरोसिन पानी में पूरी तरह से भीग गया है। उपस्वास्थ्य केंद्र में दवाइयां, रजिस्टर व अन्य दस्तावेज भी खराब हो गए हैं। सुबह जब अस्पताल खोला तो हालात पता चले। नगर में 5 घंटों की बारिश में 4.12 इंच बारिश हुई। अब तक 28 इंच की बारिश दर्ज हो चुकी हैं।

निंबोला | गुरुवार हुई तेज बारिश से क्षेत्र के नसिराबाद में फासलें आड़ी हो गई है। इसके कारण किसानों को लाखों को नुकसान हो गया है। इसकी जांच के लिए नायब तहसीलदार मुकेश चौैहान व आरआई फिरोज खान ने खेतों में जाकर फसलों की बर्बादी का निरीक्षण किया है। अधिकारियों ने जांच काम सुबह से दोपहर तक पूरा किया। फसलों के आंकड़े आने पर नुकसानीं का पता चलेगा।

आपदा पीिडतों को पंचायत ने दी 10 किलो अनाज की राहत

अापदा से पीड़ित लोगों की राहत के लिए ग्रामीण सहित पंचायत ने भी राहत दी है। इसमें पंचायत द्वारा 42 पीडितों को 10 किलो अनाज दिया गया है। पानी के तेज बहाव से मिट्टी कट गई है। पुलिया का फ्लोर तोड़कर ठेकेदार से पुन:निर्माण की बात कही है। काम शुरू करवा दिया गया है। दो से तीन दिन में पूरा जाएगा। डायवर्शन रोड से आवाजाही होती रहेगी। अन्य रपटों और पुलियों का भी निरीक्षण किया जा रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here