नकली कीटनाशक बेचने वालों पर हो एफआईआर – किसान संघ ने की किसानों की रुपए दिलाने की मांग

0
668

खरगोन।
शहर के दो प्रतिष्ठानों पर नकली कीटनाशक जब्त करने की कार्रवाई के तीन दिन बाद भी संबंधित फर्मों पर अब तक एफआईआर नहीं की गई। अब भी वहां बेरोकटोक कीटनाशक व अन्य सामग्री बेची जा रही है।

यह शिकायत भारतीय किसान संघ के किसानों ने की। शनिवार को किसान संघ के पदाधिकारी उपसंचालक कृषि कार्यालय पहुंचे और अलग-अलग विषयों पर अपना विरोध दर्ज कराया। जिला उपाध्यक्ष कैलाश पाटीदार ने बताया कि नकली कीटनाशक मिलने पर टीम ने कार्रवाई की थी। जिन संस्थाओं में कार्रवाई हुई वहां अब भी धड़ल्ले से कीटनाशक बेचा जा रहा है। इससे किसानों को नुकसान हो सकता है। उन्होंने लाइसेंस निरस्त करने के साथ जिन किसानों को कीटनाशक बेचा गया है, उन्हें रुपए वापस दिलाने की भी मांग की। किसानों ने इसके अलावा गत दिनों कपास का लागत मूल्य कम करने की बात पर भी विरोध जताया।

बैंकों ने जमा नहीं

की बीमा प्रीमियम

किसानों ने कुछ बैंकों द्वारा किसानों की बीमा प्रीमियम नहीं जमा करने की शिकायत भी की। किसानों ने 12 बैंक शाखाओं की सूची सौंपकर आरोप लगाया कि इन बैंकों ने करीब 6 हजार 377 किसानों का वर्ष 2017 का प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के अंतर्गत किसानों से राशि लेकर बीमा कंपनी को जमा नहीं की। किसानों ने ज्ञापन के साथ इन बैंकों की सूची भी सौंपी और कार्रवाई की मांग की। इस दौरान सीताराम पाटीदार, गोपाल पाटीदार, कन्हैयालाल कुशवाह, नारायण पाटीदार, अकलीम खान, बलीराम रघुवंशी, राधेश्याम सोलंकी, कमलेश पाटीदार, रमेश कुमरावत, पारस पाटीदार आदि मौजूद थे।

पुतला जलाया

आक्रोशित किसान देर शाम तक विभाग में ही बैठे रहे। किसानों ने वरिष्ठ अधिकारी के नहीं पहुंचने पर कृषि विभाग का पुतला जलाया। 22 जुलाई को खरगोन प्रवास के दौरान मुख्यमंत्री से इसकी शिकायत करने की बात भी कही।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here