बैंकों में नहीं आई 2017 की फसल बीमा राशि 2018 का बीमा नहीं करवा पा रहे किसान

0
595

बीमा क्लेम राशि कई बैंकों में बीमा राशि नहीं पहुंची है। खरीफ फसल नुकसानी बीमा दावा राशि 2017 के अंतर्गत देवास जिले को 552 करोड़ की राशि आवंटित की गई। जिसके तहत विभिन्न बैंकों के माध्यम से उक्त राशि किसानों के खाते में लेम्बार्ट कंपनी द्वारा जमा की जाना थी लेकिन कन्नौद विकासखंड के भारतीय स्टेट बैंक एवं अन्य प्राइवेट बैंकों में अभी भी किसानों के खाते में बीमा राशि जमा नहीं हुई है। जबकि शासन द्वारा लगभग 1 माह पूर्व बीमा राशि किसानों के खाते में जमा करने की घोषणा की गई। खाते में राशि नहीं आने से कई किसान 2018 की बीमा प्रीमियम राशि जमा नहीं करवा पा रहे हैं। उन्हें यह यह राशि 16 अगस्त तक जमा करवाना है।

सहकारी संस्था ननासा में किसानों को नहीं दी जा रही जानकारी

जिला सहकारी बैंकों में सेवा सहकारी संस्थाओं के माध्यम से किसानों को बीमा प्रदान किया जा रहा है। उसमें भी अनेक शिकायतें प्राप्त हो रही हैं। सेवा सहकारी संस्था ननासा द्वारा अभी तक किसानों को बीमा राशि की जानकारी नहीं दी जा रही है। न ही बीमा राशि की लिस्ट संस्था में लगाई जा रही है। न ही किसानों सो संतोषजनक जवाब दिया जा रहा है। भारतीय स्टेट बैंक शाखा कन्नौद में 10 अगस्त तक वर्ष 2017 की खरीफ फसल की बीमा दावा राशि प्राप्त नहीं हुई है। जिला सहकारी बैंक शाखा कन्नौद के किसानों के साथ बैंक बकाया ऋण एवं पूर्व ऋण की जो किश्त नवंबर 2018 में जमा होना है उसकी भी वसूली की जा रही है।

राशि आते ही खातों में जमा कर देंगे

भारतीय स्टेट बैंक शाखा कन्नौद में बीमा दावा राशि प्राप्त नहीं हुई है। लेम्बार्ट कंपनी के भोपाल मुख्यालय जो प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना की अधिकृत एजेंसी है को अवगत कराया है। जैसे ही बीमा दावा राशि प्राप्त होगी। किसानों के खाते में समायोजित कर दी जाएगी।’ डाॅ. लिलेश टेंभरे, शाखा प्रबंधक, भारतीय स्टेट बैंक कन्नौद

किसानों के खरीफ फसल 2017 दावा राशि प्राप्त हो चुकी है, जिसमें किसानों के पूर्व के ऋण की किश्त भी जमा कराई जा रही है।वरिष्ठ कार्यालय के निर्देशानुसार किसानों की बीमा दावा राशि में से ऋण की कटौती के पश्चात शेष राशि किसानों के सेविंग खाते में डाली जा रही है।’ सत्यनारायण अग्रवाल, प्रबंधक, जिला सहकारी बैंक कन्नौद

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here