बोनस की घोषणा के बाद समर्थन मूल्य पर धान बेचने अब 400 किसानों ने दिए पंजीयन कराने के आवेदन

0
672

केंद्र शासन की ओर से समर्थन मूल्य बढ़ाने के बाद अब राज्य शासन की ओर से बोनस के साथ धान खरीदी की तैयारी चल रही है। इसका असर जिले में दिख रहा है। दो सप्ताह में ही 400 से भी अधिक नए किसानों ने समर्थन मूल्य पर धान बेचने पंजीयन करवाने के लिए सभी 5 तहसीलदारों के पास आवेदन किया है। जिसकी जांच की जा रही है। जांच के बाद इनका पंजीयन कर दिया जाएगा। अभी अक्टूबर तक सहकारी समिति व तहसील कार्यालय में पहुंचकर किसानों की ओर से पंजीयन कराने का दौर चलता रहेगा। ऐसे में संख्या और बढ़ेगी। पिछले साल करीब 6 हजार नए किसानों ने पंजीयन कराया था। 16 अगस्त से पंजीयन की शुरुआत हुई है। पंजीयन करवाने की अंतिम तिथि 31 अक्टूबर है।

ट्रस्ट या संस्था की जमीन पर बोने वालों का पंजीयन : पहली बार विधिक व्यक्तियों जैसे ट्रस्ट, मंडल, प्राईवेट लिमिटेड कंपनी, शाला विकास समिति, महाविद्यालय आदि संस्थाओं द्वारा संस्था की भूमि को धान बोने के लिए यदि अन्य किसानों को लीज या अन्य माध्यम से दिया गया हैं, तो वास्तविक खेती करने वाले किराएदार किसान का पंजीयन किया जाएगा। समर्थन मूल्य का भुगतान उन किसानों के खातों में किया जाएगा।

समर्थन मूल्य के साथ बोनस भी मिलेगा

चुनावी साल में किसानों को साधने के लिए सरकार ने धान खरीदी 15 दिन पहले 1 नवंबर से शुरू करने का निर्णय पिछली कैबिनेट बैठक में लिया था। वहीं अब समर्थन मूल्य के साथ ही बोनस की राशि एक साथ देने की घोषणा की गई है। धान खरीदी केंद्रों से किसानों के खाते में ऑनलाइन भुगतान किया जाएगा। इस साल केंद्र सरकार ने धान का समर्थन मूल्य बढ़ाया है। अब ए ग्रेड धान की कीमत 1770 रुपये और कॉमन धान की कीमत 1750 रुपये हो गई है। इसमें तीन सौ रुपए बोनस जोड़ने के बाद किसानों को प्रति क्विंटल 2070 व 2050 रुपये मिलेंगे।

12 साल में धान का समर्थन मूल्य 1100 रुपए बढ़ा

जिले के करीब 1 लाख 10 हजार 241 पंजीकृत किसानों को अच्छी खबर मिल गई है कि केंद्र सरकार ने धान का न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) 200 रुपए बढ़ाकर 1,750 रुपए प्रति क्विंटल किया है। इसलिए नए किसान जो अब तक दूसरों के भरोसे खेती करते थे, वे खुद पंजीयन करा रहे हैं ताकि फायदा मिल सके। वैसे धान के समर्थन मूल्य में पांच साल पहले 170 रुपए की बढ़ोत्तरी हुई थी। हर साल न्यूनतम 40 से लेकर 100 रुपए के बीच समर्थन मूल्य बढ़ता आ रहा था लेकिन इस बार सबसे ज्यादा 200 रुपए की बढ़ोतरी हुई है।

15 दिन पहले शुरू होगी धान खरीदी

जिला सहकारी बैंक के नोडल अधिकारी डीएल नायक का कहना है कि छत्तीसगढ़ में इस साल धान की सरकारी खरीदी 1 नवंबर से शुरू हो जाएगी और 31 जनवरी तक खरीदी होगी। पिछले साल धान की खरीदी 15 नवंबर से शुरू की

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here