दस महीने के बाद भी गन्ने का भुगतान नहीं मिलने से किसानों का फूटा गुस्सा, शुगर मिल का किया घेराव

0
116

मुलताई Oct 11, 2018

ग्राम मोरखा के समीप नागदेव मंदिर के पास स्थित शुगर मिल में किसानों ने गन्ना बेचा था। गन्ना बेचने को 8 से 10 महीने के बाद भी किसानों को आज तक भुगतान नहीं मिला है। नकद भुगतान के लिए मिल संचालक ने बुधवार को किसानों को बुलाया था। जिससे बड़ी संख्या में किसान शुगर मिल पहुंचे। जहां नकद भुगतान के बदले किसानों को चेक दिए जाने लगे। किसानों ने नकद भुगतान की मांग करते हुए शुगर मिल का घेराव करते हुए जमकर प्रदर्शन किया। किसानों का कहना था उन्हें पहले भी चेक दिए थे जो बाउंस हो गए हैं। अब नकद भुगतान लेकर जाएंगे। मिल संचालक ने ही उन्हें नकद भुगतान देने की बात कहकर बुलाया है। किसानों के प्रदर्शन की सूचना मिलते ही बोरदेही और मुलताई पुलिस मौके पर पहुंच गई। पुलिस की समझाइश के बाद किसानों का आक्रोश शांत हुआ और चेक लेकर लौट गए।

पहले दिए चेक बाउंस होने से फूटा आक्रोश

ग्राम खरपड़ाखेड़ी के किसान महेंद्र सिंह परमार, सोना सिंह महाजन, हरदोली के दिनकर कोसे, बोरगांव के पारस पटेल, खेड़लीबाजार के सुरेश नायक आदि ने बताया क्षेत्र के किसानों के अलावा छिंदवाड़ा जिले के किसानों ने भी शुगर मिल में आकर गन्ना बेचा था। गन्ना बेचने के एवज में सभी को चेक दिए थे। जब किसान चेक लेकर बैंक पहुंचे तो बाउंस हो गए। इससे किसान आक्रोशित हो गए। किसानों ने मिल संचालक से संपर्क किया तो उन्होंने 10 अक्टूबर को सभी किसानों को नकद भुगतान करने की बात कही थी। अब दोबारा चेक दिए जा रहे हैं। किसानों को डर है दोबारा दिए जाने वाले चेक भी कहीं बाउंस न हो जाएं।

सुबह से दोपहर तक होते रहा प्रदर्शन

नकद भुगतान लेने के लिए सुबह 9 बजे से किसानों का शुगर मिल पर पहुंचना शुरू हो गया था। खेड़लीबाजार, मोरखा, सोनेगांव, बोरदेही, राजेगांव, उमरिया, तिरमहु, काठी, कुजबा, माथनी सहित दर्जनों गांवों के किसान अपना भुगतान लेने पहुंचे थे। नकद भुगतान नहीं मिलने पर किसान नाराज हो गए और प्रदर्शन करना शुरू कर दिया। एसडीओपी अनिल कुमार शुक्ला ने बताया बोरदेही और मुलताई से पुलिस बल भेजकर मामला शांत कराया। मिल संचालक को किसानों का भुगतान जल्द करने के निर्देश दिए हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here