जैविक खाद के लिए गुमटियों व होटल से नपा एकत्र करेगी चायपत्ती और अपशिष्ट पदार्थ

0
174

बड़वानी | Sep 22, 2018

नगर पालिका अमला अब चाय की गुमटी चलाने वाले और होटल व्यापारियों से वेस्ट चाय पत्ती, अपशिष्ट पदार्थ एकत्र करेगा। इससे जैविक खाद बनाई जाएगी। इसके लिए नपा अमले ने चाय की गुमटी व होटल संचालकों को डस्टबिन बांटे। स्वच्छता सर्वेक्षण में स्टार रैंकिंग के लिए नपा अमला शहर की सफाई व्यवस्था पर ध्यान दे रहा है। इसके तहत शुक्रवार 100 से ज्यादा डस्टबिन वितरित किए गए। अभी होटल व गुमटी संचालकों को एक-एक डस्टबिन दिया है। इसमें वे चाय पत्ती, जूठन, कागज, चाय के डिस्पोजल ग्लास एकत्र करेंगे।

नपा अमला रोजाना चाय पत्ती, अपशिष्ट, जूठन, कागज व डिस्पोजल ग्लास एकत्र कर छटनी करवाएगा। इसके बाद जैविक खाद बनाने के लिए जरूरी सामग्री उपयोग में ली जाएगी। नपा द्वारा राजघाट रोड स्थित पुराने फिल्टर प्लांट पर जैविक खाद बनाई जाएगी। इस दौरान दरोगा ओमप्रकाश शर्मा, संजय वर्मा, विनोद, विशाल सहित अन्य कर्मचारी मौजूद थे।

नालियां साफ रहें इसलिए भी दिए डस्टबिन
शहर की नालियों में रोजाना बड़ी मात्रा में डिस्पोजल ग्लास निकलते हैं। इससे नालियों में पानी की निकासी रुक जाती है। सफाई कर्मचारियों को रोजाना नालियों की सफाई में मशक्कत करना पड़ती है। सीएमओ कुशलसिंह डोडवे ने बताया चाय की गुमटियों व होटल के आसपास चाय के डिस्पोजल नालियों में मिलते हैं। इस कारण भी उन्हें डस्टबिन दिए हैं, ताकि वे चाय के डिस्पोजल ग्लास डस्टबिन में ही डालें। डस्टबिन वितरण के दौरान कर्मचारियों ने संचालकों को इसकी जानकारी भी दी। इसके बाद भी दुकानों के आसपास गंदगी या नालियों में डिस्पोजल मिलते हैं, तो नपा द्वारा संबंधित पर जुर्माना लगाया जाएगा।

सफाई में 527वें नंबर पर बड़वानी
कुछ समय पहले जारी स्वच्छता सर्वेक्षण रिपोर्ट के अनुसार बड़वानी 527वें नंबर पर था। कचरा वाहनों में जीपीएस, दस्तावेज अपडेट न रखने के नंबर कटे थे। अब कचरा वाहनों पर जीपीएस लग गए हैं। इसके अलावा स्टार रैंकिंग के लिए नपा अमला सरकारी कार्यालयों, भवनों की दीवारों पर स्लोगन लिखवाने सहित जागरुकता कार्य कर रहा है।

वाहनों में डलवा रहे सूखा व गीला कचरा
डोर-टू-डोर कचरा वाहन के साथ नपा ने एनजीओ संस्था की मदद ली है। इसके तहत दो-दो कर्मचारी कचरा वाहनों के साथ शहर में घूमकर लोगों से सूखा व गीला कचरा अलग-अलग डलवा रहे हैं। सीएमओ ने बताया हरे रंग की पेटी में गीला व नीले रंग की पेटी में सूखा कचरा डलवा रहे हैं। सचिन पंडित ने बताया लोगों को सूखा व गीला कचरा डालने की आदत को बढ़ावा मिलेगा।

पॉलीथिन की बिक्री पर लगेगा जुर्माना
पॉलीथिन के उपयोग पर रोक लगी है। जानकारी अनुसार पिछले दिनों हाईकोर्ट इंदौर की खंडपीठ ने नगरीय निकायों को पॉलीथिन के उपयोग पर रोक लगाने के आदेश दिए हैं। इसके बाद भी शहर में रोजाना 100 किलो पॉलीथिन की खपत हो रही है। अब इस पर रोक लगाने के लिए नपा कर्मचारी घर-घर व दुकानों में जाकर पॉलीथिन का उपयोग नहीं करने के लिए लोगों को जागरूक करेंगे। वहीं पॉलीथिन जब्त कर जुर्माना भी लगाया जाएगा।

सीएमओ डोडवे ने बताया 25 से 30 कर्मचारियों की टीम बनाई है। न्यूनतम जुर्माना 500 रुपए है। जबकि 10 किलो से ज्यादा पॉलीथिन जब्त होने पर 5 हजार रुपए या इससे अधिक जुर्माना वसूलेंगे। उन्होंने बताया पॉलीथिन की ईट बनाने के लिए जल्द शहर में प्लांट शुरू किया जाएगा। इसके लिए बेलिंग मशीन खरीदी है। आगामी दिनों में फटका मशीन की खरीदी की जाएगी। पॉलीथिन की ईट बनाकर सीमेंट फैक्टरी को बेचेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here