CG – खाता नंबर में चूक से किसानों को नहीं मिल रहा बीमा

0
546

 

किसानों का बैंक अकाउंट नंबर लेने में चूक के कारण जिले के 404 किसानों को अब तक फसल बीमा क्लेम का भुगतान नहीं हो पाया है। अकाउंट नंबर का मिलान किया जा रहा है। इसके बाद किसानों को भुगतान किया जाएगा। इधर, गनियारी के किसानों ने नहर से सिंचाई करने वाले किसानों को फसल बीमा का लाभ न मिलने की शिकायत कलेक्टर से की है। किसानों ने इस मामले में जांच की मांग की है।

जिला पंचायत सदस्य जयंत देशमुख के नेतृत्व में गनियारी से आए किसानों ने कलेक्टर से लिखित शिकायत करते हुए बताया कि असिंचित क्षेत्र में फसल बर्बाद होने पर किसानों को क्लेम का भुगतान हो चुका है, लेकिन सिंचित क्षेत्र में फसल बर्बाद होने के बावजूद किसानों को भुगतान नहीं किया गया। पिछले साल सूखे के कारण फसल नष्ट होने के एक साल बाद भी कंपनी ने भुगतान नहीं किया। देशमुख ने इस मामले की जांच कराने और फसल बीमा का भुगतान तत्काल कराने की मांग की है। गनियारी के किसान रोहित साहू, नेमीचंद साहू सहित अन्य किसानों ने बताया कि इस साल खरीफ सीजन शुरू होने के बावजूद उन्हें पिछले साल की बीमा राशि का भुगतान ही नहीं हुआ। फसल बीमा की राशि का भुगतान न होने पर पीड़ित किसान आंदोलन करेंगे। किसानों की फसल पर खराब होने से उनकी आर्थिक स्थिति बिगड़ रही है।

गनियारी के किसानों ने कलेक्टोरेट पहुंचकर कलेक्टर से शिकायत की, मामले की जांच कराने की मांग

किसानों ने की बीमा राशि दिलाए जाने की मांग

गनियारी के किसानों ने कलेक्टोरेट पहुंचकर कलेक्टर को ज्ञापन दिया।

बीमा कराने वाले 404 किसानों को नहीं हुआ भुगतान

पिछले साल खरीफ सीजन में जिले के 68 हजार 990 किसानों ने बीमा कराया। फसल सूखने पर सर्वे के बाद 26 हजार 786 किसानों को 30 जून तक साढ़े 52 करोड़ 53 लाख 3 हजार रुपए बीमा राशि का भुगतान करना था। शासन ने 30 जून तक हर हाल में क्लेम का भुगतान करने कड़े निर्देश दिए। इसके बावजूद अब तक 404 किसानों को क्लेम का भुगतान नहीं हुआ।

अकाउंट नंबर में छूटे अंक

कृषि विभाग के अफसरों ने बताया कि किसानों से प्रीमियम लेने के बाद उनके दस्तावेजों को स्कैन करते समय बैंक अकाउंट के कई अंक छूट गए। इन किसानों के डॉक्यूमेंट का वेरीफिकेशन हो रहा है। आईएफएससी कोड, बैंक अकाउंट नंबर लिए जा रहे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here