कोंडागांव : विश्व बैंक के अफसर बोले- बढ़ेंगे रोजगार, गांव में किसान करेंगे सामूहिक खेती

0
98

कोंडागांव Apr 27, 2019

विश्व बैक की सहायता से चल रही चिराग परियोजना के कामों को देखने बैंक के अधिकारी शुक्रवार को आए। उन्होंने विश्व बैंक के मिशन दल एवं राज्य स्तरीय अधिकारियों के साथ जिले में चल रहीं ग्रामीण विकास योजनाओं के कामों को देखा।

इस दौरान मिशन दल द्वारा एफआरए क्लस्टर मयूरडोंगर एवं बड़ेकनेरा में विकास परियोजना के कार्यों को बेहतर बताया। दल के सदस्यों ने इस दौरान महिला स्वसहायता समूह एवं किसानों द्वारा संचालित जीविकोपार्जन एवं कृषि संबंधी विभिन्न गतिविधियों तथा तीखुर उत्पादन, इमली एवं चार प्रसंस्करण के बारे में जानकारी लेते हुए ग्रामीणों को बताया कि विश्व बैंक द्वारा प्रस्तावित योजना ’’चिराग’’ के तहत ग्रामीण क्षेत्रों में कृषि, स्वास्थ्य, शिक्षा, रोजगार के अवसरों में बढ़ोतरी होगी। इसके बाद कलेक्टर नीलकंठ टीकाम ने एक संक्षिप्त बैठक में योजनाओं की जानकारी देते हुए बताया कि कोंडागांव ब्लाॅक के वनांचल ग्राम मयुरडोंगर एवं चारगांव में वनाधिकार पट्टाधारी कृषकों के लिए सामूहिक खेती की योजना है।

इन गांवों मे लोगों को कृषि, उद्यानिकी, मछली, क्रेडा की संयुक्त योजनाओं से लाभान्वित करने के साथ ही इन्हें विकास के माॅडल के साथ ही तैयार किया जा रहा है। इनमें चारगांव में चयनित 27 कृषक परिवारों के 168 एकड़ भूमि एवं मयूरडोंगर के 28 परिवारों के 115 एकड़ खेत में सिंचाई सुविधा देकर उन्हें तीन फसली खेती के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा। इस बैठक में को टास्क टीम लीडर एवं वरिष्ठ कृषि व्यवसाय विश्व बैंक राज गांगुली, ग्रामीण विकास बैंक के वरिष्ठ सलाहकार अंजनी कुमार सिंह, संयुक्त संचालक कृषि संचालनालय रायपुर आर के चन्द्रवंशी आदि मौजूद थे ।

योजनाओं का जायजा लेते विश्व बैंक के अफसर।

हरिहर बाजार में काम करने वाली महिलाओं से मिले

जगदलपुर| विश्व बैंक की सहायता से प्रस्तावित नवीन परियोजना ’चिराग’ (छत्तीसगढ़ इनक्लूजिव रूरल एंड एक्सेलेरेट एग्रीकल्चर ग्रोथ ) के संबंध में शुक्रवार को एग्रो बिजनेस विशेषज्ञ राज गांगुली के नेतृत्व में विश्व बैंक की चार सदस्यीय टीम बस्तर जिले में आई। हरियर बाजार देखने गई।

यहां महिलाओं द्वारा सहकारी समिति के माध्यम से संचालित फूड मार्केटिंग की जानकारी प्राप्त की। टीम लीडर गांगुली ने महिला उद्यमियों से कहा कि वे इस व्यवसाय में फायदे के लिए छोटा-छोटा बिजनेस प्लान तैयार करें। ऐसे कृषि उत्पादों का चयन करें, जिससे ज्यादा मुनाफा हो। उन्होंने कहा कि बस्तर कृषि उत्पादक कंपनी काम ठीक कर रही है, लेकिन इसे और अपग्रेड करने की जरूरत है। गांगुली ने भूमगादी प्रोडक्शन कम्पनी की प्रशंसा की और कहा कि इस कंपनी ने इमली और अमचूर की मार्केटिंग में ठीक काम कर रही है। विश्व बैंक की टीम ने शाम को कलेक्टोरेट में योजना से जुड़े विभागीय अधिकारियों की बैठक ली। जहां गांगुली ने कहा कि बस्तर में बच्चों में कुपोषण दूर करने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि यहां के लोगों के पास संसाधन की कमी नहीं है, केवल उनमें फूड हैबिट में बदलाव करने की जरूरत है।

हरिहर बाजार में महिलाओं से बात करते विश्व बैंक की टीम के सदस्य।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here