धमतरी : बैगन की नई किस्म तैयार करने के बाद स्वदेशी का प्रचार कर रहा युवा किसान

0
105
धमतरी May 02, 2019
ग्राम धूमा के किसान लीलाराम साहू बैगन की नई किस्म तैयार करने के बाद स्वदेशी के प्रचार में लगे हुए हैं। वे किसानों से कहते हैं कि वे खुद अपनी मेहनत और लगन से बीज तैयार करें, बहुराष्ट्रीय कंपनियों के चक्कर में न पड़ें। लीलाराम साहू ने भी बैगन की एक नई किस्म का विकास किया हैै। जिसके लिए उन्हें दो साल पहले ही राष्ट्रपति पुरस्कृत कर चुके हैं। निरंजन नाम के इस बैगन 11 राज्यों के लैब में टेस्ट हुआ जिसमें इसे नई वेरायटी घोषित किया गया। इसे सबसे ज्यादा स्वादिष्ट बैगन भी बताया गया।

वे अब तक कई प्रदर्शनी रायपुर इंदिरा गांधी विद्यालय, कृषि मेला, साबोर विद्यालय विहार, जैविक कृषि मेला बाम्बे, अंतरराष्ट्रीय साइंस कान्फ्रेंस अहमदाबाद में भी इस बैगन के बारे में किसानों और वैज्ञानिकों को जानकारी दे चुके हैं।

देसी अपनाने से किसानों को लाभ, बाजार से न लें बीज : उन्होंेने कहा कि वे स्वदेशी चाहे उनके द्वारा तैयार किया गया हो या देश के किसी भी किसान द्वारा, का प्रचार करते हैं। किसानों को इसी से फायदा होगा। देसी चीजों के सेवन से स्वास्थ्य ठीक रहता है। पर्यावरण भी सुरक्षित रहता है। उन्होंने खरपतवार वाले बीज से बचने के लिए उन्होंने बाजार से बीज लेना बंद करने की अपील किसानों से की है।

एेसे तैयार किया बीज

सबसे बडे़ और सबसे अच्छे बीज को पेड़ पर ही रखकर पकाते रहे। ऐसा उन्होंने सात साल तक किया इससे नई किस्म तैयार हो गई। वे अभी और भी नए प्रयोग कर रहे हैं। राष्ट्रीय नवप्रवर्तन प्रतिष्ठान भारत के सहयोग से अन्य राज्यों में निरंजन भटा बैगन का प्रचार किया जा रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here