किसान फसल कटाई में व्यस्त, खेतों में पहुंचे प्रत्याशी

0
127

कांकेर| Oct 31, 2018

इस बार के चुनाव में प्रत्याशियों की मुश्किलें ना केवल चुनाव आयोग की सख्ती बल्कि दो और भी कारणों से बढ़ गई है। पहला है शहरों में व्यापारियों का दीपावली पर्व की तैयारियों में व्यस्त होना तो दूसरा बड़ा कारण है गांव-गांव में किसानों का धान कटाई में व्यस्त होना।

यही कारण है कि प्रत्याशी जब गांव पहुंचते हैं तो पूरा गांव खाली मिलता है। इसके चलते अब प्रत्याशी गांव से अधिक किसानों के खेतों में सीधा रुख कर रहे हैं और वहीं उनसे संपर्क कर वोट मांग रहे हैं। धान कटाई में व्यस्त होने के कारण स्टार प्रचारकों की सभाओं में भी भीड़ नहीं पहुंच पा रही है जिसे लेकर नेता बेहद परेशान हैं। अगले सप्ताह भर में भाजपा के लिए रमन सिंह और राजनाथ सिंह कांकेर जिले में चुनावी सभा लेने वाले हैं जिसे स्थानीय नेता स्थगित कराने प्रयास कर रहे हैं।

कांकेर विधानसभा से भाजपा प्रत्याशी हीरा मरकाम ने बताया कि दिन में किसी गांव पहुंचने पर पूरा गांव खाली मिलता है। यही कारण है कि वे गांवों में शाम 4 बजे के बाद पहुंचते हैं। उनका फोकस साप्ताहिक बाजारों में ज्यादा रहता है क्योंकि यहां आसपास के कई गांवों के ग्रामीण पहुंचते हैं। रास्ते में पड़ने वाले गांवों में जाने की अपेक्षा वे सीधे किसानों के खेतों में पहुंच रहे हैं। कांग्रेस प्रत्याशी शिशुपाल शोरी ने कहा कि सुबह 8 बजे ही किसान धान कटाई करने खेतों की ओर निकल जाते हैं।

कांग्रेस प्रत्याशी शिशुपाल शोरी खेत में पहुंचे।

शहरों में व्यापारी दीपावली तैयारियों में तो कर्मचारी चुनाव ड्यूटी में व्यस्त

प्रत्याशी जब शहर पहुंचते हैं तो वहां भी व्यापारी वर्ग दीपावली पर्व की तैयारियों में व्यस्त मिलता है। अधिकारी कर्मचारी तो चुनाव कार्य में व्यस्त होते हैं जिसके चलते इनसे भी प्रत्याशियों की भेंट नहीं हो पा रही है।

भाजपा प्रत्याशी हीरा मरकाम भी किसानों से मिले।

सभाएं स्थगित कराने प्रयास कर रहे नेता

2 नवंबर को सीएम रमन सिंह और 5 को केंद्रीय मंत्री राजनाथ सिंह की सभा जिले में प्रस्तावित है। किसानों के फसल कटाई में व्यस्त होने के कारण नहीं जुट रही भीड़ को देखते भाजपा नेता बड़ी सभाओं को स्थगित कराने प्रयास में जुट गए हैं क्योंकि पार्टी की भी फजीहत होती है।

स्टार प्रचारकों की सभा में भी जुट नहीं पा रही भीड़

भाजपा और कांग्रेस चुनाव में लोगों को लुभाने स्टार प्रचारकों का भी सहारा ले रही है। इनकी सभाओं में भी पूरा दम लगाने के बावजूद नेता भीड़ नहीं जुटा पा रहे हैं क्योंकि ग्रामीण इस वक्त फसल कटाई छोड़ कहीं नहीं जाते हैं। यही कारण है की हल्बा में आयोजित सीएम रमन सिंह की सभा में अपेक्षित भीड़ नहीं जुट पाई थी। उत्तरप्रदेश से पहुंचे केंद्रीय मंत्री रामकृपाल यादव की सभाओं में तो मुश्किल से 100 लोग पहुंचे थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here