कोरबा : फैनी चक्रवात को लेकर प्रशासन ने किया अलर्ट- किसान खेत-खलिहानों में खुली न छोड़ें कटी फसल

0
112

कोरबा

बंगाल की खाड़ी में निर्मित फेनी चक्रवात का असर गुरुवार से ही दिखने लगा। सुबह से बदली छायी रही। दाेपहर में कुछ देर के लिए धूप निकली। इसकी वजह से तापमान 7 डिग्री गिरकर 42 से 35 डिग्री पहुंच गया। गुरुवार को दोपहर में 39 डिग्री था। जिसमें लगातार गिरावट आती रही। पिछले एक सप्ताह से तापमान 40 डिग्री के ऊपर बना हुआ था। इस सप्ताह अधिकतम 44 डिग्री पहुंच गया था। न्यूनतम तापमान 28 डिग्री तक पहुंच गया था वह भी 4 डिग्री गिरकर 24 डिग्री तक आ गया है। चक्रवात को देखते हुए जिला प्रशासन ने अलर्ट जारी किया है। इसके प्रभाव से तेज हवाओं व हल्की मध्यम बारिश से होने वाले नुकसान से बचने के लिए एडवाइजरी जारी की गई है। कलेक्टर किरण कौशल ने ऐसी किसी भी स्थिति से निपटने के लिए आपदा प्रबंधन विभाग के अधिकारियों के साथ-साथ जिले के सभी अधिकारियों को सतर्क रहने कहा है। जिले में आंधी-तूफान से होने वाली क्षति पर भी कड़ी नजर रखने की हिदायत दी गई है। फैनी तूफान से किसी भी प्रकार की क्षति होने पर प्रभावित लोगों को तत्काल हर संभव आर्थिक सहायता देने राजस्व अधिकारियों को कहा गया है। फैनी तूफान के कारण पूरे छत्तीसगढ़ सहित जिले में भी दो दिनों तक 30 से 40 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से तेज हवाएं चलने की संभावना है। इस दौरान हल्की से मध्यम बारिश के कारण जिले में आद्रता में भी बढ़ोत्तरी हो सकती है। ऐसी संभावनाओं को देखते हुए किसानों को सलाह दी गई है कि वे अपने खेत खलिहानों में कट चुकी फसलों को खुला न छोड़े। कट चुकी फसलों को सुरक्षा की दृष्टि से सुरक्षित स्थान पर भंडारित कर लें। खुले में रखे अनाज और खेतों में तैयार खड़ी फसल को भी काटकर सुरक्षित रखने की व्यवस्था की सलाह भी किसानों को दी गई हैं। तूफान के कारण तेज हवाओं की स्थिति में लोगों को अधिक सावधानी बरतने की सलाह दी गई है कि ऐसी स्थिति में संभव हो तो घर से बाहर न निकलें। वाहन न चलाएं। झुग्गी-झोपड़ी वाले इलाकों में तेज हवा से उड़ने वाले सामान को उचित व्यवस्था कर समय पर सुरक्षित कर लिया जाए।

लोगों को तेज हवाओं के बीच घर से नहीं निकलने की हिदायत

स्वास्थ्य टीम के साथ वन विभाग और कृषि विभाग के अफसर व कर्मचारी भी रहेंगे सतर्क

कलेक्टर ने मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी को फैनी तूफान के कारण किसी भी प्रकार की विपरीत परिस्थितियों से निपटने के लिए मेडिकल दल बनाकर सुविधायें सुनिश्चित करने कहा है। एसपी सहित वन विभाग, कृषि एवं अन्य सहयोगी विभाग, राहत आपदा प्रबंधन और सभी अनुविभागीय राजस्व अधिकारियों, तहसीलदारों तथा नगरीय निकायों के अधिकारियों को सचेत रहने और जरूरत पड़ने पर तत्काल राहत कार्य शुरू करने के कहा गया है। इसको लेकर तैयारियां तेज कर दी गई हैं।

जानिए एक सप्ताह किस तरह रहा तापमान

दिनांक अधिकतम न्यूनतम

25 अप्रैल 43 27

26 अप्रैल 43 29

27 अप्रैल 44 30

28 अप्रैल 44 29

29 अप्रैल 44 29

30 अप्रैल 43 30

1 मई 42 28

2 मई 35 24

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here