35 मिलर्स से ही अनुबंध, जीपीएस के फेर में परिवहन शुरू नहीं, 9 लाख क्विं. धान जाम

0
45

बालोद Dec 14, 2019

जिले के 110 केन्द्रों में एक दिसंबर से अब तक 9.26 लाख क्विंटल धान खरीदी हो चुकी है। लेकिन अब तक एक दाना भी उठाव नहीं हो पाया है। ऐसी स्थिति पहली बार बनी है। वजह धान उठाने के लिए आदेश, अनुमति, अनुबंध में देरी हो रही है। साथ ही अब वाहनों में जीपीएस लगाना अनिवार्य कर दिया है।

लिहाजा राइस मिलर्स विरोध कर रहे है। अभी स्थिति ऐसी है कि विपणन, खाद्य विभाग के अफसर राइस मिलर्स को मनाने में लगे है कि अनुबंध कराकर जल्दी धान उठाओ। लेकिन कब से धान उठाव शुरू होगा। यह कोई बता नहीं पा रहे है। नतीजा धान खुले आसमान के नीचे है। समिति प्रबंधक व अध्यक्ष कह रहे है कि 2-3 दिनों में अगर परिवहन शुरू नहीं होता है तो खरीदी प्रभावित हो सकती है।

गौरतलब है कि राइस मिलर्स और ट्रांसपोर्टर अब बिना जीपीएस के वाहनों में समर्थन मूल्य पर खरीदे गए धान का परिवहन नहीं कर पाएंगे। सभी मिलर्स और ट्रांसपोर्टर्स को जल्द से जल्द जीपीएस सिस्टम लगवाने के लिए कहा जा रहा है। नई व्यवस्था लागू होने के चलते ही परिवहन शुरु नहीं हो पाया है।

कुल खरीदी- 9 लाख 26 हजार 654 क्विंटल

मोटा- एक लाख 91 हजार 32.80 क्विंटल

पतला- 5 लाख 29 हजार 520 क्विंटल

सरना- 2 लाख 6 हजार 101.20 क्विंटल

धान बेच चुके किसान- 25 हजार 564

पहली बार ऐसी स्थिति: 110 केन्द्रों में धान उठाने 44 मिलर्स में से 40 को अनुमति

बालोद. परसतराई सहित अन्य केन्द्रों में परिवहन शुरु नहीं होने से धान जाम

छोटे किसानों को धान बेचने मिले मौका इसलिए बना रहे प्लान

धान खरीदी को लेकर बालोद में एसडीएम सिल्ली थामस, नोडल अफसर रोहित कुमार आलेन्द्र व सहायक नोडल अफसर डीआर ईस्दा ने गुरूर एवं बालोद के समिति अध्यक्षों की बैठक ली। जिसमें धान खरीदी टोकन अधिकतम 300 कट्टा का जारी करने पर चर्चा की गई। ताकि छोटे किसानों को भी धान बेचने मौका मिले। समर्थन मूल्य धान खरीदी के लिए लगातार 3-4 दिन तक एक ही बड़े किसान का टोकन न काटा जाए। इधर रोजाना नए नियमों से किसान परेशान हैं।

परिवहन शुरु नहीं होने से वैकल्पिक व्यवस्था यह, ताकि सुरक्षित रहे धान

धान खरीदी के बाद सिलाई, छल्ली, एवं स्टेकिंग शासन के नियमानुसार 4500 कट्टा का स्टेक सिस्टम से बनाई जाए ताकि भौतिक सत्यापन के समय आसानी से गिनती किया जा सके। बेमौसम बारिश की बचाव के लिए तार पोलिंग की पर्याप्त व्यवस्था होना चाहिए। अध्यक्षों की ओर से धान खरीदी बफर लिमिट कम करने एवं परिवहन का कार्य जल्द चालू करने के लिए कहा गया। इस दौरान समिति अध्यक्ष पुरुषोत्तम पटेल, किशोर यदु, छगनलाल देशमुख, रोमन लाल, मणिकांत बघेल, घनाराम साहू, हितेश्वर श्याम आदि मौजूद रहे।

कीमत- 1 अरब 69 करोड़ 24 लाख 67 हजार 777 रु.

जिम्मेदार अफसर कह रहे

स्वाभाविक है परिवहन नहीं होने से खरीदी हो सकती है प्रभावित: नोडल अफसर आरके आलेन्द्र ने कहा कि 110 केन्द्रों में खरीदी हो रही है लेकिन परिवहन शुरु नहीं हो पाया है। ऐसे में स्वाभाविक है खरीदी प्रभावित हो सकती है। इस संबंध में अफसरों से चर्चा कर रहे है।

डीएमओ कह रहे 35 राइस मिलर्स का अनुबंध हो चुका: डीएमओ शशांक सिंह ने कहा कि जल्द परिवहन शुरु होगा। 44 में से खाद्य विभाग ने 40 को अनुमति दे दी है। 35 राइस मिलर्स का अनुबंध हो चुका है। जीपीएस की अनिवार्यता है। यह लग चुका है। मिलर्स भी धान उठाने तैयार है।

आदेश ही नहीं आया: बालोद सोसायटी प्रबंधक मधु देशमुख, पोण्डी अध्यक्ष मणिकांत बघेल ने बताया कि परिवहन नहीं होने से शुरु दो-चार दिन में धान खरीदी बंद होने की स्थिति आ सकती है। अब तो लिमिट भी हट गया है। परिवहन को लेकर अब तक आदेश नहीं आया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here