13 दिन में 1 लाख 39 हजार क्विं. धान खरीदा किसानों के खाते में 28 करोड़ रुपए हुए जमा

0
124

भिलाई Nov 14, 2018

धान खरीदी शुरू होने के बाद दो हफ्ते का समय बीतने के बावजूद धान खरीदी व्यवस्था में तेजी नहीं आ पाई है। दिवाली के बाद धान खरीदी में तेजी आने की उम्मीद थी, लेकिन अब तक सिर्फ 1लाख 39 हजार 349क्विंटल धान खरीदा गया है। धान बेचने वाले किसानों को अब तक 28 करोड़ 71 लाख 436 रूपए का भुगतान किया गया है।

त्योहार के बाद हफ्ते भर तक धान कटाई का काम प्रभावित होने के कारण खरीदी केंद्रों में ज्यादा किसान नहीं आ रहे हैं। खाद्य विभाग के अफसरों ने बताया कि 1 नवंबर से धान खरीदी की व्यवस्था शुरू हुई। 77 उपार्जन केंद्रों में 60 हजार 544 क्विंटल मोटा धान, 74 हजार 128 क्विंटल पतला और 4676 क्विंटल सरना धान की खरीदी हो पाई है।

धान खरीदी होने के बाद 24 घंटे के भीतर किसानों को धान की कीमत और बोनस की राशि दी जा रही है। किसानों के बैंक खाते में धान का समर्थन मूल्य और बोनस की रकम जमा की जा रही है।

बोनस : धान बेचने वाले किसानों 28 करोड़ 71 लाख 436 का भुगतान किया

धान के स्टॉक की जांच करते खाद्य विभाग के अधिकारी।

अफसरों ने फिर पकड़ा बिना बिल का धान

मंडी और खाद्य विभाग की टीम ने धनोरा में जदानंद किराना स्टोर्स में 50 कट्‌टा धान पकड़ा गया। सेलूद में जैन किराना स्टोर्स में 60 कट्‌टा, तरीघाट में 30 कट्‌टा और केसरा के प्रीत वाणी किराना स्टोर्स में 60 कट्‌टे, गोवर्धन निषाद किराना स्टोर्स से 30 कट्‌टा धान पकड़ा।

जिल में अब तक 62 प्रकरण दर्ज किए गए

धान कोचियों से अब तक कुल 3124 बोरी धान बिना बिल और दस्तावेज के पकड़ा गया है। अवैध धान संग्रहण के मामले में 62 प्रकरण दर्ज किए गए हैं। कुल 125 क्विंटल अवैध धान रखने के कारण कोचियों से 1 लाख 92 हजार 663 रूपए मंडी शुल्क वसूल किया।

इस साल अच्छी बारिश से हुआ है बंपर उत्पादन जिले में 4 लाख टन धान खरीदी की संभावना

इस साल अच्छी बारिश और मौसम अनुकूल होने के कारण धान का बंपर उत्पादन हुआ है। पिछले साल की तुलना में इस साल धान का रकबा 27 हजार 544 हेक्टेयर बढ़ गया है। धान खरीदी के लिए पंजीयन कराने वाले किसानों की संख्या भी बढ़ी है। अफसरों ने बताया कि पिछले साल सूखे की स्थिति के कारण फसल का पर्याप्त उत्पादन नहीं हुआ। जिले की सेवा सहकारी समितियों में 72 हजार 122 किसानों ने पंजीयन कराया था। इस बार पंजीयन की प्रक्रिया के दौरान 6715 किसानों ने धान खरीदी के लिए नया पंजीयन कराया। धान उत्पादन करने वाले कुल किसानों की संख्या बढ़कर 78,837 हो गई है। पिछले साल सिर्फ 73 हजार 246 हेक्टेयर एरिया में धान का उत्पादन हुआ। इस बार 1 लाख 6हजार 381 हेक्टेयर एरिया में धान का उत्पादन हुआ है। इस अनुपात से दुर्ग जिले में लगभग 4 लाख टन धान खरीदी होने की संभावना है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here