बादल छाने से टमाटर की फसल खराब होने की आशंका, बाजार में 50 फीसदी गिरा दाम

0
43

पत्थलगांव Dec 14, 2019

किसानो की परेशानी कम होेने का नाम नहीं ले रही है। एक फसल बर्बाद होने के बाद अब टमाटर की दूसरी फसल पर आसमानी बादल का कहर बरप रहा है। पिछले दो दिनों से आसमान में बादल छाए रहने से 400 रुपए प्रति भार का टमाटर फिसलकर 200 रुपए प्रति भार पर आ गया। दाम घटने से किसानों के चेहरे में चिंता की लकीरें खींच गई है।

ससकोबा के किसान हरीशचंद्र ने बताया कि कुछ दिनो से आसमान में छाए रहने वाले बादल के कारण टमाटर के पौधे एवं फल मे फंगस लगने की शिकायत देखी जा रही है। उनका कहना था कि आसमान मे यदि एक दो दिन बादल छाए रहे तो टमाटर की दूसरी फसल भी बर्बाद हो जाएगी। खराब मौसम में टमाटर की फसल को बचा पाना बेहद कठिन काम है,इधर मौसम या कृषि विभाग की ओर से किसानों को उचित परामर्श ना मिलने से वे दो तरफा मार झेलने को मजबूर हैं।

400 रुपए भार का टमाटर घटकर 200 रुपए पर पहुंचा

प्रोसेसिंग यूनिट की नहीं हुई शुरुआत

प्रत्येक वर्ष टमाटर सीजन के दौरान किसानों को फसल का उचित लाभ नहीं मिलने से उनके द्वारा शासकीय प्रोसेसिंग यूनिट की मांग दोहराई जाती है। मांग पर स्थानीय नेताओं द्वारा पांच साल के दौरान सिर्फ एक बार ध्यानाकर्षण कर किसानों के सामने बडे़-बडे़ वादे किए जाते है,परंतु सत्ता का सुख मिलते ही किसानों की दुख की ओर से इन नेताओ का ध्यान स्वतः ही हट जाता है। ऐसे में किसान हर साल अपनी मांग दोहराते है और फसल बर्बाद होते देखते हैं।

नकली दवाओं की भरमार

कृषि विभाग द्वारा रासायनिक खाद एवं दवाओं की कभी भी जांच नहीं होने के कारण इन दवाओं का लाभ किसानों को नहीं मिल पाता। ससकोबा के किसान हरीश्चद्र ने बताया कि फंगस एवं कीट लगे टमाटर के पौधे में जब कीटनाशक दवाओ का छिड़काव किया जाता है, तो किसानो को उसका परिणाम सुखद नहीं मिल पाता। उनका कहना था कि दवा छिड़कने के बाद भी कीटों पर असर नही होता,जिसे देखने के बाद लगता है कि शायद बाजार मे नकली दवाओ की भरमार है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here