धान में लगा तना छेदक माहो किसानों की बढ़ी चिंता

0
161

रायगढ Oct 27, 2018

जिले में कम अवधि में पकने वाले धान की कटाई शुरू हो चुकी है। वहीं कई जगहों पर बदले मौसम के कारण फसल का विकास रुक गया है। किसानों ने बताया कि धान की फसल में तना छेदक, भूरा माहो आदि बीमारी लग गई है। कीटनाशक छिड़काव का भी इन पर कोई असर नहीं हो रहा है। इसके कारण अंचल के किसानों की चिंता बढ़ गई है।

किसानों का कहना है कि बदली के कारण धान की गुणवत्ता में कमी आएगी और उत्पादन पर भी प्रभाव पड़ेगा। सुभाष साहू के अनुसार खेतों में पोटाश का छिड़काव किया जा रहा है। कृषि विभाग के अफसर बताते हैं कि धान की बाली में दूध नहीं भरने का मुख्य कारण फसल में पोटाश की कमी है। किसानों को खेतों में पोटाश का छिड़काव अनिवार्य रूप से करना चाहिए। इससे भूरा माहो व झुलसा रोग का दुष्प्रभाव कम होगा।

दवा बेअसर

तना छेदक, झुलसा व माहो का प्रकोप बढ़ रहा है। किसानों के अनुसार 5 एकड़ में 15 हजार रुपये का कीटनाशक डाल चुके हैं, जो बेअसर रहा। प्रभावित धान की बालियां सूख रही हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here