सब स्टेशन से बिजली सप्लाई सुधारने की मांग

0
237

Oct 03, 2018

पिपरिया- 

बारिश कम होने के कारण धान किसान ट्यूबवेल के द्वारा धान की फसल को पानी दे रहे हैं, लेकिन बिजली बराबर ना मिलने के कारण वे फसलों को पानी नहीं दे पा रहे। परेशान किसानों ने चेतावनी दी है कि अगर जल्दी ही किसानों को बिजली सप्लाई ठीक से नहीं दी गई तो वे आंदोलन के लिए मजबूर होंगे। ग्राम बोर, बुरारी, शंखनी, धनाश्री, खेरवा, उदयपुरा, मुड़ियाखेड़ा सहित अनेक ग्रामों के किसानों ने बताया कि उन सभी को संखनी फीडर से बिजली की सप्लाई दी जाती है।

खेरवा क्षेत्र के कपिल चौरसिया ने बताया बिजली मिली ही नहीं रही है। सरपंच नर्मदा प्रसाद राम कुमार करण सिंह सुनील राजेश कुमार विनीत चौरसिया और हेमराज सिंह आदि किसानों ने बताया कि पिछले एक सप्ताह से बिजली ने परेशान करके रखा हुआ है। हालत यह है कि 10 मिनट चलने के बाद बिजली ट्रिप हो जाती है और घंटों उसका पता नहीं रहता।

बारिश हुई नहीं है और खेतों में धान की फसल पानी मांग रही है। कई बार स्थानीय बिजली ऑफिस में अधिकारी से इस बारे में चर्चा की गई, लेकिन कोई नतीजा नहीं निकला है। धान की फसल को अब ज्यादा समय नहीं बचा है ऐसे में अगर समय पर पानी नहीं दिया गया तो धान के किसान बर्बाद हो जाएंगे।

किसानों ने कहा है कि यदि जल्दी ही समस्या का समाधान नहीं हुआ तो किसानों के द्वारा धरना और आंदोलन किया जाएगा। किसानों की ओर से कांग्रेस की किसान खेत मजदूर कांग्रेस के ब्लॉक अध्यक्ष हेमराज पटेल के नेतृत्व में एक ज्ञापन विद्युत वितरण कंपनी के अधिकारियों को भी दिया गया है।

किसानों ने मांगा मुआवजा

पिपरिया। मूंग और उड़द की फसलें खराब हो जाने से निराश किसानों ने शासन से मुआवजे की मांग की है। किसान खेत मजदूर कांग्रेस विभाग के अध्यक्ष हेमराज पटेल ने बताया की एसडीएम पिपरिया को एक ज्ञापन सौंपा गया है इसमें कहा गया है कि बारिश कम होने और खराब मौसम के कारण किसानों को मूंग और उड़द की फसल में नुकसान उठाना पड़ा है। कई किसानों ने खराब फसल के कारण अपने खेत बखर दिए हैं।

ज्ञापन में मांग कि किसानों के द्वारा बोए गए रकबे का सत्यापन कर फसल का सर्वे कर बीमा कंपनी को कहा जाए कि वह किसानों को बीमा राशि का भुगतान करें। धान की फसल भी कम पानी और खराब मौसम के कारण खराब होने की स्थिति में आ गई है उसका भी सर्वे किए जाने की मांग की गई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here