हरुना धान में आने लगी बालियां, रोग की आशंका

0
174

बालोद | Sep 11, 2018

अच्छी बारिश हाेने से क्षेत्र के गांवों में इन दिनों धान की फसल लहलहाने लगी है। खरीफ सीजन की प्रमुख फसल धान में बालियां निकलने लगी हैं। कृषि विभाग के अनुसार अभी अर्ली वैरायटी यानि हरुना किस्म की धान फसल में बालियां निकल रही है, जो पकती है। देर से पकने वाली धान फसल में सितंबर के बाद बालियां आना शुरु होगी। अर्ली वेरायटी धान की फसल में बालियां लहलहाने लगी है। ऐसे में बालियां निकलते समय फसल में रोग लगने तथा कीट पतंगों का भी खतरा बढ़ जाता है।

किसान यदि फसल की देखभाल में जरा सी लापरवाही करेंगे तो पैदावार प्रभावित हो सकता है। अमूमन सितंबर में ही धान की बालियों के निकलने का समय रहता है। किसानों को इस समय सावधानी बरतने की खास जरुरत है। इस समय फसल में झुलसा, तना बेधक, गंधी कीट, फूदका का खतरा बढ़ जाता है। झुलसा रोग लगने से फसल की पत्तियां सूखने लगती हैं। यदि समय पर दवाओं का छिड़काव नहीं किया गया तो फसल खराब हो सकती है।

बीज निगम अंतर्गत कृषि विभाग छत्तीसगढ़ के ज्वाइंट डायरेक्टर यशवंत केराम ने बताया कि फूल निकलते समय किसी रासायनिक उर्वरक या कीटनाशक का उपयोग न करें। इनका उपयोग करने से फूल का विकास सही ढंग से नही हो पाता। जिससे उपज में कमी आती है। धान की फसल में मानक के अनुसार ही नाईट्रोजन का प्रयोग करें। अधिक मात्रा में प्रयोग करने से फसल के नीचे गिरने का डर रहता है। इस समय फसल की निगरानी पर जोर देने की जरूरत है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here