सरसों का उत्पादन 70 लाख टन होने की आशा

0
263

Oct 02, 2018

सरसों का उत्पादन 70 लाख टन होने का अनुमान व्यक्त किया गया है। टैरिफ घटने से पाम तेल पर 1 रुपए किलो का प्रभाव पड़ेगा। पाम तेल सस्ता होगा। राजस्थान सरकार ने मूंगफली पर मंडी शुल्क 1.6 से घटाकर 1 प्रतिशत करने की घोषणा की है। वर्ष 2017-18 में भारत में सरसों का उत्पादन 17 प्रतिशत बढ़कर 70 लाख टन हो सकता है। पिछले वर्ष सरसों का उत्पादन 60 लाख टन हुआ था। ग्लोबल इंडिया सम्मेलन के अवसर पर इमामी एग्रोटेक के सुधाकर देसाई ने कहा कि सरसों शीतकाल में बोई जाने वाली प्रमुख तिलहन फसल है। सरसों का उत्पादन बढ़ने से विदेशों से आयात में कमी हो सकती है। भारत दो तिहाई खाद्य तेल आयात करके अपनी जरूरतों की आपूर्ति करता है। सरसों के भाव इस वर्ष 10 प्रतिशत तेज रहे हैं। आयात शुल्क बढ़ाए जाने से यह स्थिति बनी है।

शनिवार होने से खाद्य तेलों में कामकाज का अभाव बना रहा। प्लांट वाले भाव ऊंचे ही बोलते रहे। कड़ी का रिसेल में सोया तेल 722 लोकल 745 रुपए में बेचू रहे। प्लांटों में सोया तेल कालापीपल 743 शांति ओव्हरसीज 745 बजरंग अवि एग्रो 746 केशव 747 महाकाली विप्पी 748 धानुका 738 मंदसौर 739 इंदौर पाम 722 रुपए। कांडला पाम 652 से 655 सीपीओ 588 से 590 डीगम 695 से 697 सोया रिफाइन 725 से 728 रुपए। मूंगफली तेल जामनगर 840 राजकोट 840 से 850 बीकानेर 820 से 850 रुपए। प्लांटों की खरीदी में सोयाबीन अवि एग्रो 3175 धानुका 3200 शांति ओव्हरसीज 3170 आर एच सिवनी 3200 खंडवा ऑयल्स 3170 कृति 3150 महाकाली 3200 सावरिया इटारसी 3250 नया 3225 खंडवा ऑयल्स 3170 धुले 3360 से 3440 रुपए। इंदौर सींगदाना तेल 860 से 880 सोया रिफाइन 743 से 748 साॅल्वेंट 705 से 710 रुपए। तिलहन बाजार| मंडी में सरसों हलकी 3600 से 3700 मीडियम 3800 से 3900 निमाड़ी 3900 से 3950 रायड़ा 3450 से 3600 सोयाबीन 3250 करंज 2750 से 2800 टोली 2700 से 2750 रुपए। कपास्या खली| इंदौर, देवास, उज्जैन 1400 (60 किलो) 1633 (70 किलो) खंडवा, बुरहानपुर 1390 (60 किलो) 1622 (70 किलो) अकोला 1775 रुपए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here