दस साल की औसत वर्षा से इस बार 7 इंच कम बारिश

0
216

Oct 03, 2018

बिलासपुर

दस साल की औसत वर्षा से इस बार 7 इंच कम बारिश हुई है। किसानों की चिंता बढ़ने लगी है। इसलिए चौपालों पर चर्चा भी शुरू हो चुकी है। पिछले साल सूखे के बावजूद 804 मिमी बारिश हुई थी जबकि इस साल अब तक 908मिमी पानी गिरा है।

22 सितंबर के बाद शहर व जिले में बारिश नहीं हुई है। जिले में अब तक 840 मिमी ही बारिश हुई है जो खेती के लिए कम है। हालांकि अभी स्थिति बहुत चिंताजनक नहीं है लेकिन किसान परेशान होने लगे हैं। तखतपुर सहित कुछ अन्य इलाकों में खेतों में पानी सूखने लगा है। कहीं-कहीं तो पानी पूरा सूख चुका है। पानी के बाद अब धान की फसल के सूखने की बारी है। यदि बारिश नहीं हुई तो फसल सूख जाएगी और उत्पादन पर इसका असर पड़ेगा। दस वर्ष की औसत बारिश के मुताबिक अब तक जिले में 1025 मिमी वर्षा होनी थी। पर 185 मिमी यानी सात इंच से कम बारिश हुई है। पिछले साल सूखे के बावजूद 908 मिमी बारिश हो चुकी थी। सितंबर का महीना खत्म हो चुका है। 1 सितंबर तक जिले की सभी तहसीलों को मिलाकर औसत बारिश 746.5 मिमी थी जो 30 सितंबर तक 840 मिमी हो सकी। सितंबर में अच्छी बारिश की उम्मीद जताई गई थी और शुरुआत में 6 दिनों में शहर में 20 मिमी बारिश हुई थी फिर 11 दिनों तक बारिश ही नहीं हुई। 20 व 21 सितंबर को बारिश हुई लेकिन इसके बाद फिर से बारिश नहीं हो रही है।

तखतपुर ब्लॉक के ग्राम लाखासार में पिछले साल सूख गई थी फसल।

मस्तूरी में सबसे कम बारिश : अब तक मस्तूरी तहसील में सबसे कम बारिश हुई है। यहां 59.9 फीसदी यानी 702 मिमी पानी गिरा है। वहीं सबसे ज्यादा बारिश पेंड्रा में 937.2 मिमी यानी 99.8 प्रतिशत बारिश हुई है। मस्तूरी पिछले साल सूखा पड़ा था। इस बार भी यदि अच्छी बारिश नहीं हुई तो खेती को नुकसान पहुंच सकता है।

शहर का तापमान 35.4 डिग्री, प्रदेश में सबसे ज्यादा

बारिश तो नहीं हो रही है और प्रदेश में सबसे ज्यादा तापमान बिलासपुर में दर्ज हो रहा है। मंगलवार को भी प्रदेश में सर्वाधिक तापमान 35.4 डिग्री बिलासपुर में दर्ज किया गया। वहीं रायपुर में 33.7, पेंड्रारोड में 34, अंबिकापुर में 32.7, जगदलपुर में 32.6, दुर्ग में 33.2 तो राजनांदगांव में 34.2 डिग्री तापमान रिकार्ड किया गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here