50 किमी/घंटे की चली हवा, शहर से गुजरा चक्रवात, तभी तेज बारिश

0
222

महासमुंद | Sep 22, 2018

पश्चिम मध्य बंगाल की खाड़ी पर गुरुवार को बना कम दबाव का क्षेत्र साइक्लोन में बदल गया। इसके चलते क्षेत्र में तेज बारिश हुई। गुरुवार की रात से ही अंचल के कई इलाकों में काफी तेज बारिश हुई। बारिश की वजह से शहर तर-बतर हो गया और जगह-जगह पानी जमा हो गया। इधर, पिछले कई दिनों से बारिश नहीं होने से परेशान किसानों को राहत मिली है। साथ ही पारा 3 डिग्री गिरकर 31 पर पहुंच गया है।

मौसम वैज्ञानिक हरिप्रसाद चंद्रा के मुताबिक पश्चिमी मध्य बंगाल की खाड़ी पर एक अवदाब बना है जो गुरुवार को दोपहर ढाई बजे कलिंगपट्‌टनम से लगभग 40 किमी पूर्व दक्षिण पूर्व में और गोपालपुर से लगभग 50 किमी पूर्व दक्षिण पूर्व में केंद्रित था। गुरुवार को मध्य बंगाल की खाड़ी और ओडिशा गोपालपुर, टिटलागढ़, कलिंगपट्‌टनम से होते हुए साइक्लोन ने छत्तीसगढ़ में प्रदेश किया।

इसके चलते महासमुंद जिले में अल सुबह तेज हवाओं के साथ जमकर बारिश हुई। मौसम वैज्ञानिकों की मानें तो साइक्लोन के चलते हवाओं की रफ्तार 40 से 50 किलोमीटर प्रतिघंटे की थी। इस दौरान महासमुंद जिले में करीब 29 मिमी बारिश हुई। सर्वाधिक बारिश पिथौरा क्षेत्र में दर्ज की गई, जो 44 मिमी थी। जिले में अब तक 1048 मिमी बारिश हो चुकी है, जो पिछले तीन साल में सर्वाधिक है।

किसानों को फायदा ज्यादा, नुकसान कम

जिले में पिछले 10 दिनों से बारिश नहीं होने से जिले के 10 फीसदी खेतों में पानी की डिमांड शुरू हो गई थी। यानी करीब 20 हजार हेक्टेयर खेत में लगे फसल को तत्काल पानी की जरूरत थी।

सप्ताहभर में बारिश न होने पर धान के उत्पादन पर असर पड़ता, लेकिन इस बारिश से खेतों में पानी उपलब्ध हो गया है। इस साल जिले में 2 लाख 42 हजार 460 हेक्टेयर कृषि भूमि पर धान की बोवनी की गई है। शुरूआती दौर में रुक रूककर बारिश के बाद अगस्त में काफी अच्छी बारिश हुई। सितंबर के पहले सप्ताह के बाद बारिश बंद होने से किसानों को फसल बचाने की चिंता होने लगी थी लेकिन अरली वैरायटी के धानों में बाली आने के कारण से सो गए हैं, जिससे किसानों को नुकसान भी होगा।

महासमुंद|बागबाहरा रोड में बोए गए अरली वैरायटी के धान सो गए है।

कहीं-कहीं हो सकती है बारिश: मौसम वैज्ञानिक

मौसम वैज्ञानिकों के मुताबिक संभाग में एक-दो स्थानों पर भारी बारिश की संभावना है। तेज हवा चल सकती है और कई इलाकों में गरज-चमक के साथ बौछारे पड़ने की संभावना है।

इस तरह पिछले तीन सीजन में इस तारीख पर हुई बारिश के आंकड़े (मिमी में)..

ब्लाक 2016 2017 2018

महासमुंद 1098.8 951.5 1035.0

सराईपाली 788.7 869.6 954.7

बसना 1037.5 911.4 985.0

पिथौरा 675.4 933.5 1123.3

बागबाहरा 692.7 915.9 1142.0

आैसत 858.6 916.4 1048

तीन डिग्री गिरा तापमान

गुरुवार को दिन का तापमान महासमुंद 34.3 डिग्री दर्ज हुआ था लेकिन शुक्रवार तापमान घटकर 31.6 डिग्री पहुंच गया। बागबाहरा का तापमान भी 33.3 डिग्री से घटकर 31.3 डिग्री हो गया। पिथौरा का तापमान 34 से घटकर 31 डिग्री, बसना का तापमान 33 से घटकर 30 डिग्री एवं सराईपाली का तापमान 34 से घटकर 32 डिग्री तक दर्ज किया गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here