प्रशासन जैविक खेती के ट्रेनिंग कैम्प लगाए : राज्यपाल

0
469

 

गांव अरनिया जागीर में राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने जैविक खेती का निरीक्षण किया। किसानों को सफलता के टिप्स दिए। उन्होंने बताया किसान कभी हिसाब रखता ही नहीं है, मैंने आज तक किसान के घर पर हिसाब का रजिस्टर देखा ही नहीं है और इसलिए किसान मार खा जाते हैं। फिर बोलते हैं कि मुनाफा तो हुआ ही नहीं, लेकिन यह नहीं कहेंगे कि हमने हिसाब का रजिस्टर बनाया ही नहीं। नारायणसिंह ने हिसाब-किताब का रजिस्टर बनाया। इसमें नफा-नुकसान जो भी आया उसने उसके आधार पर बदलाव करते खेती की इसलिए यहां उपस्थित किसान इनके रजिस्टर को देखें, उस आधार पर रजिस्टर बनाएं ताकि उन्नत कृषि के साथ आप एक अच्छे व्यापारी बनें।

किसान ने उठाया आवारा गायों का मुद्दा

बावई के किसान ने कहा रोड पर गाय विचरण करते हुए खेतों में चली जाती है और नुकसान पहुंचाती है। राज्यपाल ने कहा गाय किसकी है किसान की। उसका उपयोग हो जाने के बाद किसान उसे रोड पर छोड़ देता है। हमारे पूर्वजों के पास भी गाय होती थी पर वह रोड पर नहीं छोड़ते थे, जब तक उसके प्राण नहीं निकल जाते थे तो तब तक वह घर में ही रहती थी। गाय काे घर में ही रखो, चार व अन्य खाद्य सामग्री खिलाओ क्योंकि वह दूध के साथ गोबर देती है, जिसे खाद के रूप में इस्तेमाल करो।

अधिकारियों ने तो नहीं सिखाया कि क्या बोलना है : किसानों के संबोधन से पूर्व राज्यपाल कार से जैविक खेती देखने पहुंची। किसान नारायणसिंह सैंधव द्वारा उन्हें जैविक खेती के बारे में जानकारी दी व मुनाफे के बारे में बताया। राज्यपाल ने उनसे कहा कि अधिकारियों ने तो कुछ नहीं बताया। पता लगे कि अधिकारियों ने सिखा दिया कि ये-ये बोलना। किसान ने कहा कि ऐसा कुछ नहीं है। इसके बाद उन्होंने खेत देखा, पानी व जैविक खाद, ड्रिप के माध्यम से पौध तक पहुंचाने की कार्यप्रणाली को समझा व उक्त मशीन को भी देखा। किसान ने कहा कि जैविक खेती के लिए इंदौर में कैम्प लगाए जाते हैं लेकिन जिले में यह कहीं पर आयोजित नहीं हुआ। राज्यपाल ने कलेक्टर श्रीकांत पांडेय से कहा वे जैविक खेती के कैम्पों का आयोजन करें।

सोनकच्छ. राज्यपाल आनंदीबेन ने किसानों से सीधा संवाद किया।

जामगोद में सोलर पंप का निरीक्षण किया

जामगोद |राज्यपाल आनंदीबेन पटेल का शुक्रवार दोपहर 1 बजे जामगोद आगमन हुआ जहां ग्रामीणों व किसानों ने स्वागत किया। जामगोद में किसान राहुल पटेल के खेत पर लगे सोलर पंप के बारे में राज्यपाल ने जानकारी ली और खूबियों के बारे में जाना। उसके बाद वाशिंग पाउडर बनाने वाली कंपनी किस तरह उत्पादन बनाती है, यह जानकारी ली। राज्यपाल ने ग्रामीणों व किसानों को चर्चा कर बताया 2002 से ही गुजरात में तत्कालीन मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोलर पंपों की उपयोगिता जानकर किसानों को अपने-अपने खेतों पर सोलर पंप लगाने के लिए प्रेरित किया था। इसमें शासन अनुदान भी देती है। आप लोग और भी अपने-अपने खेतों पर सोलर पंप लगाकर इसका लाभ लें। भाजपा जिलाध्यक्ष नंदकिशोर पाटीदार, जिला मंत्री फूलसिंह चावड़ा, भाजपा अजा मोर्चा के जिलाध्यक्ष कमल अहिरवार, विष्णु वर्मा, युवा मोर्चा के जिला कार्यकारिणी सदस्य ईश्वर पटेल, सतीश गोस्वामी, अंसार खान आदि उपस्थित थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here