MP – मुख्यमंत्री की सभा में आए किसानों के भोजन का भुगतान शाजापुर के साथ दूसरे जिलों ने भी करा दिया

0
485

6 जून को शाजापुर में हुए किसान समृद्धि योजना के प्रदेश स्तरीय कार्यक्रम में भोजन घोटाला उजागर हुआ है। भोजन के नाम पर अफसरों ने बगैर जांच पड़ताल के लाखों रुपए का भुगतान कर दिया। दोपहर 12 से 2 बजे तक महज 2 घंटे के कार्यक्रम के दौरान यहां 30-35 हजार किसान आए, किंतु शाजापुर सहित 7 अन्य जिलों से आए सभी किसानों की संख्या 50 हजार बताते हुए यहां के कृषि विभाग ने 20 लाख रुपए का भुगतान कर दिया। खास बात यह है कि इन्हीं किसानों को भोजन पैकेट देने के नाम पर अन्य जिलों के कृषि विभाग ने भी मोटी राशि का भुगतान किया है।

कार्यक्रम के दो दिन पहले ही यहां लगाया गया डोम आंधी में उड़ गया था। इसके बाद तत्काल दूसरा डोम लगवाया और कार्यक्रम में भी 15-20 जिलों के बजाए 8 जिले के किसानों को शामिल करने का निर्णय लिया गया, लेकिन कार्यक्रम में शाजापुर सहित अन्य जिलों से आई कई बसें खाली थीं। किसी बस में 8 तो किसी में 10-12 लोग ही आए। ऐसे में भोजन, पानी और बसों के किराए के भुगतान को लेकर अधिकारी भी पसोपेश में पड़ गए। उप संचालक कृषि संजय दोशी ने भी स्पष्ट रूप से कह दिया मैं अकेले किसी भी प्रकार का भुगतान नहीं करूंगा। इस पर एक समिति बनाई गई। समिति भी तीन माह तक भुगतान कराने के निर्णय नहीं ले सकी। इधर, 11 जुलाई को कालापीपल में फिर से सीएम का कार्यक्रम हुआ। इसमें भोजन की व्यवस्था कराने से पहले उप संचालक कृषि को तत्काल पुराना हिसाब करना पड़ा। उन्होंने सभी ब्लॉकों को एडवांस 1-1 लाख के बाद 4-4 लाख रुपए यानी कुल 20 लाख का भुगतान कर दिया। बता दें टेंडर में प्रति पैकेट 40 रुपए रेट तक किया था। इस रेट के हिसाब से 50 हजार किसानों को भोजन पैकेट के नाम पर यह भुगतान किया गया है।

आगर जिले से आए 8 हजार, भुगतान 15 हजार का

आगर-मालवा से करीब 8 हजार किसान शाजापुर आए थे। लेकिन वहां 15 हजार किसानों के हिसाब से भोजन का भुगतान किया गया है। देवास, उज्जैन, सीहोर व रायसेन में भी भुगतान का आंकड़ा ऐसा ही है। जिन 7 जिलों से किसानों को शाजापुर के कार्यक्रम में शामिल होने भेजे गए थे। वहां के अफसरों ने तो स्पष्ट कहा है हमारे यहां के किसानों को हमने ही भोजन पैकेट दिए थे। विदिशा के किसानों को तो कृषि विभाग ने सुबह और शाम को वापस जाने के बाद भी भोजन कराना बताया है। हालांकि दूसरे जिले वालों ने भी किसानों के आंकड़े अपने हिसाब से ही लिख लिए। यहां पहुंचाए गए किसानों से डेढ़ गुना ज्यादा किसानों के नाम से भोजन का खर्च किया गया।

इन जिलों के किसान शामिल हुए : शाजापुर जिले सहित आगर-मालवा, देवास, उज्जैन, विदिशा, सीहोर, राजगढ़ और रायसेन जिले के किसान सीएम के कार्यक्रम में शामिल हुए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here