चक्काजाम कर किसानों ने कहा- 10 दिन में निराकरण नहीं तो करेंगे उग्र आंदोलन

0
91

बुरहानपुर Oct 25, 2019

नगर पालिका के वार्ड क्रमांक 15 के तहत आने वाले भातखेड़ा रोड पर वर्षों पहले बनी पुलिया जर्जर हो गई है। इसका निर्माण नहीं होने से ग्रामीण और किसान खासी दिक्कतों का सामना कर रहे हैं। आलम यह है कि पिछले चार-पांच महीने से यहां से बड़े वाहनों की आवाजाही पूरी तरह बंद है। इस रोड से अंधारवाड़ी, सातपायरी और नावथा भी जुड़े हैं। लेकिन रोड और पुलिया जर्जर है। पुलिया निर्माण के लिए बार-बार की जा रही मांग के बाद भी नगर पालिका ने सुनवाई नहीं की तो गुरुवार को किसानों का गुस्सा फूट पड़ा। उन्होंने भातखेड़ा पुलिया पर चक्काजाम कर दिया। रोड पर वाहन खड़े कर दिए। किसान अपने साथ एक बोर्ड लेकर आए थे। इस पर लिखा था- किस-किसको देंगे अावेदन…क्या सोया हुआ है प्रशासन…कब होगा पुल का निराकरण।

किसानों द्वारा रोड पर वाहन खड़े कर चक्काजाम करने की खबर लगते ही पुलिस और प्रशासनिक अफसरों में हड़कंप मच गया। तहसीलदार सुंदरलाल ठाकुर, थाना प्रभारी एचएल चौहान और नगर पालिका सीएमओ कीर्ति चौहान ने मौके पर पहुंचकर उन्हें समझाइश दी। लेकिन किसानों ने उन्हें चेताते हुए कहा अगर 10 दिन के भीतर समस्या का निराकरण नहीं किया गया तो उग्र आंदोलन करेंगे। इस दौरान किसानों ने तहसीलदार को ज्ञापन भी सौंपा। इसमें कहा भातखेड़ा, अंधारवाड़ी, सातपायरी और नावथा से नेपानगर पहुंचने वाले इस मार्ग के जर्जर होने से काफी परेशानी हो रही है। यहां से बड़े वाहनों का आवागमन बंद हो गया है। इसको लेकर नगर पालिका को कई बार शिकायत की जा चुकी है, लेकिन ध्यान नहीं दिया जा रहा है। उपज ले जाने के लिए दूसरे मार्गों से होकर गुजरना पड़ रहा है। समस्या का निराकरण नहीं हुआ तो उग्र आंदोलन किया जाएगा। इस दौरान ललित चौहान, विलास पटेल, संजय पाठनकर, अश्विन जोशी, मयूर वाघ, उदय जोशी, खुशाल लोखंडे, भीमासिंह राठौड़, किशोर बन्होट, ज्ञानेश्वर चौहान, भीमा नायक, शंकर चौहान और रवि चौधरी सहित अन्य किसान मौजूद थे।

जर्जर पुिलया की िस्थति देखते तहसीलदार सुंदरलाल ठाकुर।

चक्काजाम करने के बाद इंजीिनयर्स को लेकर मौके पर एक घंटे देरी से पहुंचीं सीएमओ चौहान

किसानों के चक्काजाम करने पर नगर पालिका सीएमओ कीर्ति चौहान करीब एक घंटे बाद मौके पर पहुंचीं। वे अपने साथ नगर पालिका के इंजीनियर्स को भी लेकर आईं। पुलिया का तुरंत निरीक्षण किया। इंजीनियर्स को इस्टीमेट बनाने के लिए कहा। इससे पहले किसानों का आक्रोश शांत करने के लिए तहसीलदार और थाना प्रभारी ही उन्हें समझाइश देते रहे। चेतावनी के साथ किसानों ने आंदोलन खत्म किया। समस्या का निराकरण नहीं होने पर दोबारा आंदोलन की चेतावनी दी।

यह है भातखेड़ा की जर्जर पुलिया के हालात

भातखेड़ा पुलिया काफी जर्जर हो चुकी है। बारिश में इसकी स्थिति और खराब हा़े गई है। यहां बड़े-बड़े गड्ढे हो गए हैं। पहले यहां रेलिंग नहीं थी। भास्कर द्वारा लगातार खबर प्रकाशित करने के बाद नगर पालिका अध्यक्ष राजेश चौहान ने मौके पर पहुंचकर निरीक्षण किया था। इसके बाद यहां लाेहे के एंगल के साथ जाली लगा दी गई। इसके बाद रोड इतना संकरा हो गया है कि एक बाइक भी बड़ी मुश्किल से निकल पा रही है।

सीएमओ कीर्ति चौहान को परेशानी बताते किसान।

गंभीरता नहीं : सीएमओ को फाेन लगा लगाकर परेशान हो गए पार्षद

किसी भी मामले को नगर पालिका द्वारा गंभीरता से नहीं लिया जाता है। गुरुवार को भी किसानों के चक्काजाम के दौरान यही स्थिति बनी। वार्ड क्रमांक 15 के पार्षद रविंद्र जामोलकर सीएमओ कीर्ति चौहान को मौके पर बुलाने के लिए बार-बार फोन लगाते रहे, लेकिन हमेशा की तरह सीएमओ ने फोन नहीं उठाया। इस कारण पार्षद भी परेशान हो गए। हालांकि बाद में उन्होंने फोन उठाया और मौके पर आईं।

इन गांवों के ग्रामीण हो रहे परेशान

रोड से करीब दो हजार से अधिक वाहनों का आवागमन होता है। इस मार्ग से प्रमुख रूप से भातखेड़ा, सातपायरी, अंधारवाड़ी और नावथा सहित अन्य गांवों के लोगों की आवाजाही है। उन्हें परेशानी झेलना पड़ रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here