24 घंटे में न्यूनतम तापमान 4॰ गिरा, 10.5॰ पर आया, किसान अगले पांच दिन तक फसलों की देखरेख करें

0
72

दमोह Dec 05, 2019

शहर में ठंड का असर तेज हो गया है। बुधवार को न्यूनतम तापमान 4 डिग्री की गिरावट दर्ज की गई है। न्यूनतम तापमान 10.5 डिग्री दर्ज किया गया। दिन का तापमान 27.5 डिग्री रहा, जबकि मंगलवार को दिन का तापमान 27.0 डिग्री और न्यूनतम तापमान 14.5 डिग्री दर्ज किया गया था।

न्यूनतम तापमान में आई गिरावट के साथ ही ठंड का असर तेज हो गया है। बुधवार को दिनभर सर्द हवाएं चलती रहीं। दोपहर में धूप निकलने से लोगों को कुछ राहत मिली, लेकिन सूरज ढलते ही ठंड अपना असर दिखाने लगी। सर्द हवाएं चलने से लोगों को दिनभर गर्म कपड़ों का सहारा लेना पड़ा। सुबह से कोहरे की धुंध भी छाई रहीं। शाम को फिर ठंड का असर बढ़ गया। लोग बिना गर्म कपड़ाें के घर से बाहर नहीं निकल पा रहे थे। इधर अगले पांच दिनों तक मौसम को देखते हुए किसानों को फसलों की देखभाल करने की सलाह मौसम वैज्ञानिकों द्वारा दी गई है।

हवा 4 से 5 किमी प्रति घंटे की गति से चल सकती है: भारत मौसम विज्ञान विभाग भोपाल द्वारा जारी मौसम पूर्वानुमान से प्राप्त जानकारी के अनुसार आगामी पांच दिनों का मौसम पूर्वानुमान अगले 120 घंटों के दौरान 8 दिसंबर तक अधिकांश क्षेत्रों में हल्के बादल छाए रहना संभावित है। अधिकतम तापमान 29-31 डिग्री सेंटीग्रेट व न्यूनतम तापमान 13-15 डिग्री सेंटीग्रेट के साथ अधिकतम सापेक्षित आर्द्रता 74 से 81 प्रतिशत व न्यूनतम सापेक्षित आर्द्रता 41 से 49 प्रतिशत रहने की संभावना है। आने वाले दिनों में हवा की दिशा उत्तर-पूर्व दिशा में चलने एवं हवा की गति 4 से 5 किमी प्रति घंटे की गति से चलना भी संभावित है। अगले पांच दिनों में मौसम को देखते हुए कृषि विज्ञान केंद्र के विषय वस्तु विशेषज्ञ राजेश ने फसल अनुसार किसानों को सलाह दी है कि अनाज दलहनी व तिलहनी वाली फासले, गेहूं की फसल यदि 21 दिन की अवस्था में है तो यह अवस्था नमी एवं पोषक तत्वों की क्रांतिक अवस्था है। किसान जन उर्वरक की टॉप ड्रेसिंग कर सिंचाई करें। गेहूं के खेतों में खरपतवार नियंत्रण के लिए किसान बुवाई के 25 दिनों के बीच 2-4,डी 600ग्राम प्रति हेक्टेयर की दर से पानी में घोल बनाकर छिड़काव करें। एक एकड़ में 200 लीटर घोल का छिड़काव करें। किसान गेहूं, चना की शीघ्र पकने वाली जातियों की बुवाई करें। नवजात बछड़ों मेमनों आदि को ठंड से बचाव के लिए फर्श पर पैरा का गहरा बिछावन बिछाए व छत वाले बाड़े में रात को रखें। दुधारू पशुओं को हरे चारे के रूप में नेपियर ग्रास जसवंत ग्रास व अजोला ग्रास खिलाएं।

दमाेह। किसानाें काे फसलों की देखभाल करने की सलाह।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here