अधिकारी ने प्रभावित गेहूं की फसल देखी, कहा- क्लोरीपायरी फाॅस दवाई डालें किसान

0
116

धार Nov 22, 2019

गेहूं की फसल में काली इल्ली व कीड़े लगने से गेहूं की फसल खराब होने की खबर दैनिक भास्कर ने बुधवार को प्रमुखता से प्रकाशित की थी। खबर प्रकाशित होने के बाद कृषि विभाग हरकत में आया। गुरुवार सुबह ग्रामीण कृषि विस्तार अधिकारी रजनीश गिरवाल छोटा कठोड़िया पहुंचे। गेहूं की फसल में हो रहे नुकसान को देखा। फसल को खराब होने से बचाने के लिए किसानों को सलाह भी दी।

किसान जसवंत सिंह डोडिया, मोहन मालवीय एवं होशियार सिंह ने बताया कि बाजार से महंगे भाव के गेहूं का बीज लाकर लगाया था। जो फसल खराब होने से व्यर्थ चले गए। अब ट्रैक्टर वाले को फिर भाड़ा देना पड़ेगा। खाद, बीज भी लगेगा। सोयाबीन में नुकसान के बाद लग रहा था कि गेहूं की फसल अच्छी आएगी। जिससे कर्जा उतर जाएगा। पर ऐसा नहीं हुआ। किसान डोडिया ने अधिकारी को बताया 8 बीघा के गेहूं लगाए हैं। धीरे- धीरे पौधा पीला पड़ने लगा है। देखते ही देखते खेत में कई जगह गेहूं की फसल सूख गई।

ग्रामीण कृषि विस्तार अधिकारी गिरवाल ने बताया बारिश अधिक होने के कारण खेतों में नमी ज्यादा होने से बारीक कीड़ा जड़ों में लग रहा है। किसानों को क्लोरीपायरी फाॅस दवाई 3 किलो प्रति बीघा डीएपी व यूरिया के साथ मिलाकर उड़ाने को कहा। दवाई उड़ाने के बाद सिंचाई करने से पौधे सूखना बंद हो जाएंगे। हमने दस्तावेज पूर्ण कर जानकारी ऊपर अधिकारियों को भेज दी है। यदि फसल बीमा होगा तो शासन की तरफ से मुआवजा मिल सकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here