12 दिन बाद आज टिमरनी मंडी में 50 किलो की कट्टी में होगी सोयाबीन खरीदी, किसानों को भेजेंगे मैसेज

0
116

 हरदा/ टिमरनी Nov 28, 2019

टिमरनी में गुरुवार से सोयाबीन और सभी जिन्सों का तौल सिर्फ 50 किलो की कट्टी में ही होगा। मंडी बोर्ड के आदेश को मानने से इनकार करने वाले व्यापारियों का उसी दिन लाइसेंस रद्द होगा। इतना ही नहीं मंडी में रोज थोक व फुटकर खरीदी में शामिल होने वाले व्यापारियों की उपस्थिति का भी रिकॉर्ड मेंटेन होगा। दाेनों शिफ्टों में लाइसें धारी व्यापारियों की हाजिरी दर्ज की जाएगी। इसमें शामिल होने पर भी लाइसेंस रद्द किया जाएगा।

मंडी सचिव नरेंद्र मेश्राम ने एसडीएम को प्रस्ताव भेजा। जिसमें सोयाबीन खरीदी बंद होने से हो रहे राजस्व नुकसान व किसानों की परेशानी बताई। एसडीएम ने व्यापारियों को नोटिस जारी किए। 12 दिन में मंडी को 24 लाख रुपए का औसतन राजस्व नुकसान हो चुका है। भास्कर ने मजदूरों व किसानों के हित में 22 नवंबर को प्रमुखता से इस मुद्दे को उठाया था। इसके बाद हम्माल तुलावटी संघ के प्रतिनिधि सामने आए। अब सोयाबीन खरीदी की सूचना किसानों काे एमएमएस भेजकर दी जाएगी।

15 नवंबर से बंद थी सोयाबीन खरीदी, 24 लाख रुपए का हो चुका है मंडी को राजस्व का नुकसान

भास्कर के मुद्दे के बाद तोड़ी चुप्पी

हम्माल व मजदूरों के शोषण के खिलाफ आवाज उठाने वाले संगठनों के पदाधिकारी भी दो साल से इस मुद्दे पर खामोश थे। 22 नवंबर को भास्कर में जब खबर छपी तो, तवा हम्माल यूनियन और मानवाधिकार आयोग सदस्य व अन्य संगठनों ने चुप्पी तोड़ी। हम्मालों व मंडी सचिव से चर्चा की। 23 नवंबर को संघ के संरक्षक शांति जैसानी, अनिल वैद्य आदि ने कलेक्टर को ज्ञापन दिया। 50 किलो से ज्यादा वजन उठाने पर होने हम्मालों के साथ होने वाली दुर्घटना की जिम्मेदारी लेने की मांग की। टिमरनी मंडी सचिव ने बुधवार को 50किलो तौल की सहमति दी। इसके बाद जेसानी व वैद्य ने हरदा मंडी सचिव किशोर माहेश्वरी को ज्ञापन देकर हरदा में भी गुरुवार से इसे लागू कराने की मांग की।

 

22 नवंबर को प्रकाशित खबर।

दाेनाें शिफ्टों में व्यापारियों की हाजिरी का रखा जाएगा रिकॉर्ड

टिमरनी मंडी में आज से नीलामी में शामिल होने वाले व्यापारियों को दोनों शिफ्टों में मंडी प्रबंधन हाजिरी का रिकॉर्ड दर्ज करेगा। जिससे नीलामी में शामिल होने और न होने वाले व्यापारियों को चिन्हित किया जा सके। जो व्यापारी मंडी बोर्ड के आदेश पालन करते हुए 50 किलो की कट्टी में सोयाबीन खरीदी से इंकार करेगा, उसका उसी दिन लाइसेंस निरस्त करने की कार्रवाई होगी। मंडी प्रबंधन का मानना है कि अभी तक व्यापारियों और हम्मालों के बीच जो भी सामंजस्य था, उसके अनुसार काम चलता रहा। अब मंडी बोर्ड के आदेश का पालन करना ही होगा। इसकी अवमानना करने पर लाइसेंस निरस्त होगा।

यह है मामला

अंतरराष्ट्रीय श्रम मानकों के पालन में मंडी बोर्ड ने 2017 में मंडी सचिवों काे आदेश जारी किए थे। इसमें सभी मंडियों में हम्मालों से 50 किलो से ज्यादा वजन नहीं उठवाने के आदेश दिए थे। लेकिन जिले की मंडियों में 2 साल बाद भी अमल नहीं हुआ। हम्मालों ने 50 किलो से ज्यादा वजन नहीं उठाने की मांग की। व्यापारियों व हम्मालों के बीच हुई बातचीत बेनतीजा रही। तब मंडी सचिव ने 14 नवंबर को आदेश जारी कर 15 नवंबर से सोयाबीन खरीदी बंद कर दी। मंडी में 48 लाइसेंसी व्यापारी व करीब 200 हम्माल हैं।

प्रशासन व मंडी प्रबंधन सख्त

भास्कर में खबर छपने के बाद प्रशासन व मंडी सचिव सख्त हुए। मंडी सचिव नरेंद्र मेश्राम ने नियमों का हवाला देते हुए एसडीएम व भार साधक अधिकारी अंकिता त्रिपाठी को मंडी को हो रहे राजस्व नुकसान की जानकारी दी। एसडीएम ने व्यापारियों के नाम नोटिस जारी किए। नोटिस के जरिए मंडी व प्रशासन के आदेश की जानकारी दी। आज से 50 किलो कट्टी में सोयाबीन का तौल होगा।

जो आदेश का पालन नहीं करेगा उसका लाइसेंस निरस्त करेंगे


सभी व्यापारियों को नोटिस जारी किए हैं

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here