छोटे किसानों को 10 और बड़े किसानों को 50 हजार किया जाए भुगतान

0
92

टिमरनी Nov 17, 2018

भारतीय किसान संघ ने किसानों को उपज बेचने और भुगतान की समस्याओं को लेकर शुक्रवार को तहसील कार्यालय में एसडीएम के नाम नायब तहसीलदार केसी व्यास को ज्ञापन दिया। किसान संघ ने बताया कि कृषि उपज मंडी और सरकारी खरीदी में किसानों को काफी समस्याएं आ रही हैं।

मंडी में एक ट्राॅली खुली उपज पर एक रजिस्ट्रेशन, एक अनुबंध, एक तौल पत्रक में समानता होने पर ही कंप्यूटर बिल मान्य करते हैं। गत वर्ष एक परिवार के ही 2 से 3 सदस्यों की उपज के भावांतर योजना में तुलाई के बिल बने थे। संघ ने पिछले वर्ष की तरह ही व्यवस्था की मांग की। संघ ने बताया कि यदि एक परिवार में छोटे खातेदार किसान अधिक हैं तो उन्हें वर्तमान व्यवस्था में क्या दो चार क्विंटल उपज लेकर आना पड़ेगा। या उन्हें एक से अधिक रजिस्ट्रेशन होने पर छोटे कांटे पर उपज तुलवाने मजबूर होना पड़ेगा। मंडी में दस हजार रुपए तक उपज बेचने वाले छोटे किसानों के भुगतान पर 50 प्रतिशत बैंक आरटीजीएस की बाध्यता खत्म की जाए। साथ ही बड़े किसानों को भी 50 हजार रुपए तक का नकद भुगतान मिले। समर्थन मूल्य पर उड़द खरीदी के मापदंडों में शिथिलता बरती जाए। सहकारी समितियों को जल्द पर्याप्त मात्रा में रासायनिक खाद उपलब्ध कराया जाए। ज्ञापन देते समय किसान संघ के पदाधिकारी मौजूद थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here