होशंगाबाद : 80 हजार क्विंटल गेहूं को परिवहन की दरकार, गेहूं की घटती में 2.5 लाख की वसूली के आदेश

0
89

होशंगाबाद Apr 27, 2019

कृषि उपज उप मंडी सहित टेकापार समिति के दो वेयरहाउसों में समर्थन मूल्य पर की जा रही गेहूं खरीदी में परिवहन धीमा है। करीब 80 हजार क्विंटल गेहूं 45 डिग्री तापमान में बोरियों में खुले में पड़ा है। समिति प्रबंधकों की चिंता गेहूं की सूख लगने को लेकर है। दरअसल गत वर्ष समर्थन मूल्य पर टेकापार समिति ने गेहूं खरीदी की थी। इसमें खरीदे गए गेहूं के परिवहन के बाद करीब 145 क्विंटल की घटती आई है। अब घटती की भरपाई के लिए समिति प्रबंधक को करीब ढाई लाख रुपए का नोटिस थमा दिया गया है। गेहूं खरीदी को लेकर समितियों के हाथ-पाव फूल रहे हैं। यदि क्रय किए गेहूं का परिवहन समय रहते नहीं होता तो गेहूं में घटती हो सकती है। इसका खामियाजा समितियों को भुगतना पड़ेगा। समिति प्रबंधक शिवकुमार शर्मा के मुताबिक उप मंडी में करीब 40 हजार क्विंटल गेहूं परिवहन के लिए पड़ा है। समिति प्रबंधक वीरेंद्र रघुवंशी के मुताबिक 37 क्विंटल गेहूं विनायक और जगदम्बा वेयर में हो रही खरीदी केंद्र पर पड़ा है। एक ट्रक एक बार में 180 क्विंटल गेहूं का परिवहन करता है। इस लिहाज से करीब 450 ट्रक एक दिन में इतने गेहूं का परिवहन कर पाएंगे। लेकिन इतने ट्रक नहीं होने से ये मुमकिन नहीं है एक दिन में महज 10 से 20 ट्रक ही भरे जा सकते हैं। वह भी तक जब गेहूं की तुलाई बंद की जाए। परिवहन की लेटलतीफी के चक्कर में समितियों को आर्थिक नुकसान उठाना पड़ सकता है।

47 किसानों के गेहूं की राशि अटकी

उधर करनपुर समिति केंद्र पर करीब 47 किसानों के गेहूं का भुगतान अटक गया है। पीपीओ को फेल्यूअर होने की वजह से किसानों का भुगतान नहीं हुआ। किसानों को गेहूं तुलाई कराए 15 से 20 दिन बीत चुके हैं। समिति प्रबंधक महेंद्र रघुवंशी ने बताया कि वरिष्ठ कार्यालय से पीपीओ अपलोड करने के लिए कहा गया था। हमने अपलोड किया, लेकिन क्यों रिजेक्ट हो गया हमें मालूम नहीं है। अब री-लोड के लिए पोर्टल पर मैसेज आ रहा है। लेकिन दुविधा यह है कि कहीं किसानों को दो बार भुगतान न हो जाए। जब तक यह स्पष्ट नहीं होता कि दोबारा भुगतान नहीं होगा, तब तक री-लोड नहीं कर रहे हैं। जैसे ही दोबारा भुगतान नहीं होने की जानकारी मिलेगी। पीपीओ री-लोड कराएंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here