बगैर टोकन ट्रैक्टर अंदर करने पर गुस्साए किसान, हंगामा

0
112

नागदा Oct 31, 2018

कृषि उपज मंडी में उपज खरीदी के दौरान मंगलवार को हंगामा हो गया। कारण उपज बेचने आए कुछ किसान बगैर टोकन के ही वाहन अंदर ले गए। ऐसे में टोकन लेकर माल तुलाई का इंतजार कर रहे किसानों ने मंगलवार दोपहर मंडी परिसर में हंगामा कर दिया। किसानों का आरोप था कि मंडी गेट के बाहर टोकन बांटने वाली टीम की लापरवाही के कारण बगैर टोकन के वाहन अंदर एंटर किए गए हैं। जबकि वे नियमानुसार टोकन लेकर दशहरे मैदान में वाहन लगाकर अपनी बारी आने का इंतजार कर रहे हैं। हालांकि बाद में मंडी प्रबंधन ने गेट के बाहर खड़े ट्रैक्टरों की नीलामी कर वाहन अंदर किए। हंगामा बढ़ते देख मंडी पुलिस के जवान भी मौके पर पहुंच गए थे। गौरतलब है मंगलवार को मंडी में 7 हजार बोरी की आवक हुई। इसमें सोयाबीन ऊंचे में 3240, मॉडल 3 हजार 80 व न्यूनतम 2800 रुपए में बिकी।

किसानों का आरोप

मंडी प्रबंधन ने अंदर लिए वाहनों की रसीद भी काटी

बोरखेड़ा के किसान भारतसिंह, बिरियाखेड़ी के शांतिलाल व रोहलकलां के दशरथसिंह के अनुसार वे सोमवार रात से उपज लेकर मंडी पहुंच गए थे। इसका बाकायदा उन्होंने टोकन भी लिया था। मगर सुबह प्रबंधन ने बाद में आए ट्रैक्टरों को बगैर टोकन के ही अंदर कर लिया। इतना ही नहीं टोकन दर्शाने के लिए प्रबंधन ने हाथों हाथ अंदर लिए वाहनों को टोकन भी दे दिए। किसानों ने टोकन देने वाली टीम पर लेन-देन का आरोप भी लगाया है।

प्रबंधन का जवाब

टोकनधारी वाहनों को अंदर लेने में हुई गड़बड़ी

खरीदी प्रभारी अशोक शर्मा ने बताया सोमवार शाम उन्होंने 1 से 44 तक किसानों को टोकन बांटे थे। रात में टोकनधारी वाहनों को अंदर करने व लोड ट्रकों को बाहर निकालने के समय बगैर टोकनधारी किसान भी अंदर आ गए। हालांकि मंडी में उन्हीं किसानों का माल तोला गया, जिनके पास टोकन था। हंगामे के बाद बाहर खड़े टोकनधारी वाहनों में रखी उपज की नीलामी कर अंदर एंट्री दी गई।

किसानों का आरोप

मंडी प्रबंधन ने अंदर लिए वाहनों की रसीद भी काटी

बोरखेड़ा के किसान भारतसिंह, बिरियाखेड़ी के शांतिलाल व रोहलकलां के दशरथसिंह के अनुसार वे सोमवार रात से उपज लेकर मंडी पहुंच गए थे। इसका बाकायदा उन्होंने टोकन भी लिया था। मगर सुबह प्रबंधन ने बाद में आए ट्रैक्टरों को बगैर टोकन के ही अंदर कर लिया। इतना ही नहीं टोकन दर्शाने के लिए प्रबंधन ने हाथों हाथ अंदर लिए वाहनों को टोकन भी दे दिए। किसानों ने टोकन देने वाली टीम पर लेन-देन का आरोप भी लगाया है।

प्रबंधन का जवाब

टोकनधारी वाहनों को अंदर लेने में हुई गड़बड़ी

खरीदी प्रभारी अशोक शर्मा ने बताया सोमवार शाम उन्होंने 1 से 44 तक किसानों को टोकन बांटे थे। रात में टोकनधारी वाहनों को अंदर करने व लोड ट्रकों को बाहर निकालने के समय बगैर टोकनधारी किसान भी अंदर आ गए। हालांकि मंडी में उन्हीं किसानों का माल तोला गया, जिनके पास टोकन था। हंगामे के बाद बाहर खड़े टोकनधारी वाहनों में रखी उपज की नीलामी कर अंदर एंट्री दी गई।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here