किसान बोले- 4 हजार रुपए प्रति क्विंटल मिले धान के दाम, लागत निकालना हो रहा मुश्किल

0
78

रायसेन Nov 30, 2019

राष्ट्रीय किसान मजदूर संघ के पदाधिकारियों व लगभग दो दर्जन किसानों ने एसडीएम बृजेंद्र रावत को ज्ञापन सौंपकर कहा कि इन दिनों मंडी आैर प्राइवेट कंपनियां धान के उचित दाम नहीं दे रहे हैं।

जिससे किसानों को लागत निकालना भी मुश्किल हो रहा है। सालभर मेहनत करने के बाद भी लागत नहीं निकलती है जिसके चलते किसानों को कर्ज के बोझ के नीचे दबना मजबूरी हो गया है। वर्तमान समय में किसानों को तमाम समस्याओं से जूझना पड़ रहा है अन्नदाता के सामने आज लागत से कम उपज का मूल्य मिल रहा है। किसानों ने बासमती धान का न्यूनतम मूल्य 4000 प्रति क्विंटल करने और मंडी में सुविधाएं बढ़ाने की मांग की है। इसके अलावा समर्थन मूल्य पर धान खरीदी केंद्र शीघ्र प्रारंभ किए जाएं। बीमा क्लेम राशि एवं आरबीसीए 6 ए 4 के अनुसार राहत राशि किसानों को प्रदान की जाएं, प्रदेश सरकार द्वारा घोषित किसानों के सभी बैंक राष्ट्रीयकृत, क्षेत्रीय, निजी के दो लाख के कर्ज माफ किए जाएं। किसानों के गेहूं के 160 चना के 100 की बोनस राशि शीघ्र किसानों के खाते में जमा की जाए, 6000 वार्षिक किसान सम्मान निधि को बढ़ाकर 60000 की जाए। इस दौरान पूर्व विधायक रामकिशन पटेल, वरिष्ठ भाजपा नेता जोधा राम ठाकुर, युवा नेता राहुल पटेल सहित किसान उपस्थित रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here