49 तालाबों से किसानों को एक बार मिलेगा सिंचाई के लिए पानी

0
138

सीहोर | Oct 06, 2018

पिछले साल की अपेक्षा इस साल जिले में करीब 3 सेमी अधिक औसत बारिश रिकार्ड की गई है। इसके बाद भी तालाब खाली हैं। जिले के कुल 66 तालाबों में से 17 तालाब ही ऐसे हैं जो पूरे भरे हुए हैं। कुल तालाबों में अभी 53.88 प्रतिशत पानी भरा हुआ है। ऐसे में इन तालाबों से किसानों को रबी फसल की सिंचाई के लिए केवल एक ही पानी मिल सकेगा। यह पानी कभी भी दिया जा सकता है। इस साल 88.2 सेमी बारिश हुई है। इसके बाद भी 49 तालाबों में पर्याप्त पानी नहीं है। जिलेभर में तालाबों और बैराज के पानी से 51 हजार हेक्टेयर में सिंचाई की जाती है। 51 हजार हेक्टेयर के किसान तालाबों और बैराज के पानी पर ही निर्भर है।

ऐसे में पानी के अभाव में किसानों की फसलों के उत्पादन पर भी विपरीत असर पड़ सकता है। पिछले साल करीब 5 लाख मीट्रिक टन से अधिक उपज किसानों ने रबी सीजन में उत्पादन किया था।

एक बार पानी कभी भी मिल सकता है : जिले के 66 तालाबों में से एक बार सिंचाई के लिए पानी कभी भी दिया जा सकता है। इसमें किसान पलेवा कर सकते हैं या फिर फसलों की सिंचाई कर सकते हैं। हालांकि इसके लिए अभी बैठक की जाएगी। इसमें तय किया जाएगा कि पलेवा का पानी किसानों को देना है या फिर फसलों की सिंचाई के लिए पानी देना है।

पिछले साल से 23.31 प्रतिशत पानी अधिक : इन 66 तालाबों में पिछले साल हुई बारिश से अक्टूबर माह में 30.57 प्रतिशत पानी स्टोरेज था। जबकि इस साल 53.88 प्रतिशत पानी इन तालाबों में स्टोर है। इसके बाद भी किसानों को एक ही पानी मिलेगा।

51 हजार हेक्टेयर के किसान बैराज, तालाबों के भरोसे, पानी की कमी का उत्पादन पर होगा असर

13 तालाबों से मिलेगा दो बार पानी, इछावर ब्लाक को फायदा

इछावर ब्लाक के 13 तालाबों से क्षेत्र के किसानों को दो पानी मिलेगा। इसमें एक पलेवा और दूसरा फसल की सिंचाई के लिए पानी दिया जाएगा। आष्टा ब्लाक के 2 तालाब, सीहोर और बुदनी ब्लाक के एक-एक तालाबों से किसानों को सिंचाई के लिए दो पानी दिया जाएगा।

मीटिंग के बाद तय होगा एक पानी किस समय देना है

किसानों को सिंचाई के लिए तालाबों से पानी छोड़ने के लिए शीघ्र ही बैठक की जाएगी। जिला जल उपभोक्ता समिति की बैठक होगी। इसके बाद निर्णय लिया जाएगा कि जिन तालाबों में कम पानी है उससे किसानों को किस समय पानी दिया जाए। -केडी ओझा, कार्यपालन यंत्री, जल संसाधन विभाग

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here