अतिवृष्टि का असर पिछले साल से 96 हजार 749 क्विटंल घट गई सोयाबीन की आवक

0
215

शाजापुर Nov 23, 2019

शहर की अनाज मंडी में अतिवृष्टि से किसानों की सोयाबीन फसल नष्ट होने के परिणाम मंडी में पिछले तीन महीनों की तुलना में सामने आने लगे हैं। जहां पिछले वर्ष सितंबर, अक्टूबर, नवंबर माह में सोयाबीन की अच्छी आवक थी तथा मंडी टैक्स 2 प्रतिशत था, इसके बावजूद 54 लाख 56 हजार 758 रुपए टैक्स मिला था।

इस वर्ष इन तीन महीनों में टैक्स में आधा प्रतिशत कम होने और आवक घटने के बाद भी मंडी टैक्स 20 नवंबर तक 42 लाख 15 हजार 949 रुपए है। इस साल बीते 3 महिनों में 96 हजार 749 क्विटंल सोयाबीन कम आवक हुई। इसका औसत भाव 3500 रुपए क्विटंल के हिसाब से औसतन 33 करोड़ के कारोबार का नुकसान हुआ है। अगर मंडी में इतना सोयाबीन नीलाम होता तो उसको मंडी टैक्स के रूप में 35 लाख रुपए फायदा होता। अभी इसी महीने में 10 दिन और बचे हैं। जो पिछले साल सितंबर, अक्टूबर, नवंबर माह की तुलना में इस बार के 3 महिनों में मंडी को टैक्स से ज्यादा आय होगी। मतलब साफ है कि मंडी में टैक्स के रूप में नुकसान नहीं होगा, क्योंकि किसानों को उनकी उपज का भाव अधिक मिल रहा हैं, लेकिन आवक बहुत कम हैं। जिससे बाजार में महंगाई रहेगी।

सोयाबीन की आवक की कमी का बाजार और मंडी में पड़ रहा असर


तीन माह की तुलना का अंतर

माह 2018 2019 अंतर

सितंबर 9533 4730 4803

अक्टूबर 84566 36396 48170

नवंबर 82034 39061 42973

इधर, पुराने प्याज का स्टॉक खत्म होने से मंडी में पसरा सन्नाटा

शाजापुर | पुरानी प्याज फसल का स्टॉक खत्म होने के बाद इस साल नए प्याज की आवक भी नहीं हो रही है। नासिक में भी प्याज फसल को बारिश ने खराब कर दिया। ऐसे में अब मंडी में प्याज की आवक न के बराबर है। सब्जी मंडी के जगदीश गवली ने बताया कि शुक्रवार को सब मिलाकर 500 कट्टे प्याज की आवक हुई थी, जो 2 से 6 हजार के दाम पर बिके हैं। दोपहर तक तो मंडी में सन्नाटा हो गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here