पंजीकृत 70 हजार किसानों को प्रति क्विंटल 500 रुपए के भावांतर की राशि मिलेगी

0
146

शाजापुर Oct 22, 2018

किसानों को सोयाबीन फसल के उचित दाम दिलाने की मंशा से शुरू की गई भावांतर फ्लैट योजना के तहत सोमवार से जिला मुख्यालय पर खरीदी शुरू हो गई। हालांकि पहले हुई घोषणा के मुताबिक 20 अक्टूबर को जिले की तीन मंडियों में खरीदी शुरू हो चुकी है। शाजापुर मंडी में अवकाश के कारण यहां सोमवार से योजना के तहत खरीदी शुरू हो सकेगी। इसके तहत उपज बेचने वाले प्रत्येक किसान को 500 रुपए प्रति फ्लैट रेट भावांतर योजना के तहत प्रति क्विंटल सरकार बोनस देगी। हालांकि उक्त योजना को लेकर कई अधिकारियों में अब तक संशय की स्थिति है।

उक्त योजना की घोषणा तो मुख्यमंत्री ने आचार संहिता लागू होने से पहले कर दी थी, लेकिन योजना के तहत अब तक खरीदी शुरू नहीं हो सकी थी। इधर, 6 अक्टूबर से चुनावी तारीख घोषित होते ही प्रदेश में आचार संहिता लागू हो गई। ऐसे में पूर्व में की गई घोषणा व निर्माण कार्याें के भूमिपूजन व लोकार्पण कार्यक्रम पर रोक लग गई। प्रशासनिक अधिकारियों ने आचार संहिता लगने से पहले नेताओं द्वारा ताबड़तोड़ किए गए भूमिपूजन वाले कामों के निर्माण पर भी रोक लगा दी। ऐसे में सीएम की भावांतर फ्लैट रेट भुगतान योजना पर भी संशय की स्थिति बनी है। मामले में फिलहाल जिम्मेदार अधिकारी भी कुछ बोलने की स्थिति में नहीं है। मामले में सहायक आपूर्ति अधिकारी एम.के. भत्कारिया ने बताया खरीदी शुरू हो चुकी है। वैसे उक्त योजना के तहत खरीदी की तारीख आचार संहिता लगने से पहले ही घोषित हो चुकी थी। ऐसे में इस योजना पर आचार संहिता का असर संभवत: नहीं पड़ेगा। प्रदेश के अन्य जिलों में भी योजना के तहत खरीदी हुई है।

तो समर्थन मूल्य से भी ज्यादा मिलेंगे दाम

भावांतर भुगतान योजना के बजाए साेयाबीन के लिए भावांतर फ्लैट रेट योजना लागू की गई है। इसके तहत जिन किसानों की उपज के अच्छे दाम मिलेंगे। उन्हें भी योजना का बराबर फायदा मिलेगा। यानी उनकी उपज समर्थन मूल्य से भी ज्यादा दामों पर बिक सकेगी। ज्ञात रहे इस बार साेयाबीन फसल का समर्थन मूल्य 3400 रुपए तय किया गया है, लेकिन जिन किसानों को उक्त कीमत या इससे अधिक दामों पर सोयाबीन बिकेगा। उन्हें भी योजना के तहत 500 रुपए प्रति क्विंटल बोनस मिलेगा।

जिले के 70 हजार से ज्यादा को फायदा

योजना के तहत जिले के करीब 70 हजार किसानों ने पंजीयन कराया है। जो मंडी में पहुंचकर अपनी उपज व्यापारियों को बेचेंगे। उपज के जो भी दाम किसानों को मिले, उसके अलावा सरकार किसानों को प्रति क्विंटल 500 रुपए के मान से बोनस का भुगतान करेगी। यह राशि संभवत: जनवरी के बाद से किसानों को मिलना शुरू होगी।

योजना के तहत एक दिन हो चुकी हैं खरीदी

योजना के तहत 20 अक्टूबर शनिवार से खरीदी शुरू हो चुकी है। इसके तहत प्रदेश की कई मंडियों में साेयाबीन की खरीदी भी की गई है। ऐसे में अधिकारी भी अन्य जिले की स्थिति की जानकारी लेने में ही जुटे हैं। इसके बाद ही भावांतर योजना के तहत मिलने वाली 500 रुपए की राशि का लाभ देंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here