श्योपुर : 8525 किसानों ने समर्थन मूल्य पर बेचा गेहूं, 2801 किसानों का 75 करोड़ का नहीं हुआ भुगतान

0
125

श्योपुर May 01, 2019

समर्थन मूल्य पर गेहूं के अलावा चना और सरसों की खरीदी भी लगातार की जा रही है, जिसमें किसान केंद्रों पर पहुंचकर अपनी उपज बेच रहे हैं। लेकिन उन्हें तीन दिन में मिलने वाला फसल भुगतान 10 दिनों बाद जाकर भी खाते में नहीं आ रहे है। इससे किसानों की परेशानी बढ़ गई है।

समर्थन मूल्य के तहत गेहूं के 59 उपार्जन केंद्रों पर अब तक 8525 किसानों ने 80 हजार 831 मीट्रिक टन गेहूं बेचा है, जिसके एवज में उन्हें 161.57 करोड़ रुपए का भुगतान किया जाना है, लेकिन अब तक 5724 किसानों को ही 85.73 करोड़ रुपए का भुगतान किया जा सका। जबकि 2801 किसानों का 75.84 करोड़ रुपए का भुगतान नहीं हो सका।

जबकि इन किसानों को गेहूं बेचे हुए तीन दिन से ज्यादा का समय हो गया है, लेकिन भुगतान न होने से इन्हें अब परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। ऐसा नहीं है कि भुगतान बैंकों के पास शासन भेजा न हो, लेकिन भुगतान की धीमी प्रक्रिया के चलते किसानों के खाते में आने में देरी हो रही है।

चना-सरसों की राशि आई, पर नहीं किया गया भुगतान

चना-सरसों की खरीदी 7-7 केन्द्रों पर समर्थन मूल्य के तहत की जा रही है। जिसमें 4700 पंजीकृत किसानों में से चना अब तक 772 किसानों ने बेचा है, जिसमें 2 हजार 67 मीट्रिक टन की खरीदी हो सकी। इसके एवज में 9.55 करोड़ रुपए का भुगतान होना है और बैंक के पास में 4.96 करोड़ रुपए की राशि भी आ चुकी है, पर अब तक किसानों को यह भुगतान उनके खातों में डाला नहीं गया है। इसी तरह सरसों बेचने के लिए 3600 पंजीकृत किसानों में से 329 किसान समर्थन मूल्य पर 707 मीट्रिक टन सरसों बेच चुके है। जिसकी एवज में उन्हें 2.97 करोड़ रुपए का भुगतान किया जाना है, इस पर शासन ने 1.05 करोड़ रुपए की राशि भी भेजी, पर भुगतान किसानों को अब तक जारी नहीं हो सका।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here