गेहूं की फसल में दीमक पर नियंत्रण के लिए दवा का प्रयोग करें: शर्मा

0
207

श्योपुर Dec 26, 2019

कृषि विशेषज्ञों दल ने दो दिन तक मानपुर व ढोढर में भ्रमण किया। इस दौरान रबी फसलों की बोवनी एवं गेहूं की फसल में दीमक व खरपतवार नियंत्रण के बारे में किसानों को जानकारी दी गई।

कृषि विभाग के एसडीओ एसके शर्मा ने बताया कि खरपतवार व दीमक गेहूं की फसल की सबसे बड़ी दुश्मन है। इसलिए गेहूं उत्पादक किसान समय पर दीपम पर नियंत्रण के उपाय करें। फसल में निराई-गुढ़ाई करके तत्काल खरपतवार को निकालने की समझाइश देते हुए बताया कि चार पत्ते वाली खरपतवार नियंत्रण के लिए टू फॉर बी दवा प्रति हेक्टेयर सवा लीटर पानी में घोलकर छिड़काव करें। श्री शर्मा ने बताया कि किसानों को यह छिड़काव 30-35 दिन की फसल में करना चाहिए। जबकि पतले पत्तों की खरपतवार के लिए आइसोप्रोटीरोन 75 प्रतिशत एक किलोग्राम प्रति हेक्टेयर के हिसाब से घोल बनाकर छिड़काव करना चाहिए। खेत में पौधे सूखना दीमक लगने का संकेत है। जब पौधे सूखने लगे तो क्लोरोफाईरीफोस नामक दवा चार लीटर प्रति हेक्टेयर के हिसाब से पौधों की जड़ों में देकर सिंचाई करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here