कर्जमाफी के इंतजार में 39 हजार किसान, 600 ग्राम पंचायतों में सिर्फ 3 गोशालाएं खुलीं, 2700 छात्रों को लैपटॉप नहीं मिले

0
103

शिवपुरी Dec 17, 2019

प्रदेश में कमलनाथ सरकार का एक साल का कार्यकाल पूरा हो गया है। लेकिन चुनाव में कांग्रेस ने वचन पत्र में जो वादे किए थे, उनमें अधिकांश वादे अधूरे हैं। शिवपुरी जिले में 39 हजार किसान कर्जमाफी के इंतजार में बैठे हैं। जिले की 600 ग्राम पंचायतों में गोशाला के वादे के लिए पहले चरण में स्वीकृत 30 में से 3 गोशालाएं ही चालू हो सकी हैं। बेरोजगार भत्ता पाने के लिए 4 हजार युवाओं ने रजिस्ट्रेशन कराया था जिसमें से 25 युवाओं को ही दो महीने ही लाभ मिला है। शिवपुरी जिले में कक्षा 12वीं बोर्ड परीक्षा में 70% अंक लाने को लैपटॉप देने का वादा किया था। यहां 75% अंक लाने वाले 2700 छात्रों को भी लैटपटॉप नहीं मिले हैं।

बता दें कि विधानसभा चुनाव के दौरान कांग्रेस ने अपने वचन पत्र में सबसे ऊपर किसानों को लेकर वादे किए। जिसमें सबसे ज्यादा किसान कर्जमाफी का वादा सबसे कारगर साबित रहा। इसी वजह से कांग्रेस की प्रदेश में काफी सीटें आ गईं और सरकार बन गई।

दस दिन में कर्जमाफी के वादे अनुरूप अभी तक जिले के पूरे किसानों का कर्जमाफ नहीं हो सका है। जिससे किसानों का भरोसा कमलनाथ सरकार से उठने लगा है। वहीं भाजपा भी कर्जमाफी को लेकर प्रदेश सरकार को कई बार घेर चुकी है।

डिप्टी कलेक्टर मनाेज गरवाल काे लैपटॉप के लिए ज्ञापन देते छात्र-छात्राएं। (फाइल फोटो)

1. कर्जमाफी: 39 हजार के 94 करोड़ माफ, 39 हजार बाकी

कमलनाथ सरकार ने एक साल में 39 हजार 559 किसानों का 94.05 करोड रुपए का कर्ज माफ हुआ है। जबकि 39 हजार से अधिक किसान अभी कर्जमाफी का इंतजार कर रहे हैं। उप संचालक कृषि यूएस तोमर का कहना है कि शासन से निर्देश मिले हैं, कर्जमाफी को लेकर मंगलवार को वीडियो कान्फ्रेंस रखी गई है। निर्देश मिल गए हैं, जल्द ही दूसरे चरण में कर्जमाफी की प्रक्रिया शुरू होने जा रही है।

2. गोशाला : 3 गोशाला चालू हुईं, 22 अभी अधूरी हैं

पहले दौर में शिवपुरी जिले में 30 गोशाला निर्माण के लिए राशि जारी की। जिसमें सिर्फ 3 गोशालाएं बामौरकला, गोलाकाेट और निजामपुर मगरौनी की शुरू हो सकी है। हालांकि उप संचालक पशु चिकित्सा डॉ एमसी तमोरी का कहना है कि 3 गोशाला के अलावा 5 और कंप्लीट हो गईं हैं। जल्द उद्घाटन करेंगे। शेष 25 गोशालाएं संभवत दिसंबर महीने के अंत तक पूरी हो जाएंगी। प्रति गोशाला औसतन 30 लाख रु. खर्च आ रहा है। अभी 100 गाेशाला निर्माण की स्वीकृति मिल गई है। हर पंचायत स्तर पर गोशाला शुरू होना है।

3. लैपटॉप: 2700 छात्रों को लैपटॉप नहीं मिले, छात्राओं को नहीं दी स्कूटी

शिवपुरी जिले में 75% से अधिक अंक लाने वाले छात्र-छात्राओं की संख्या 2 हजार 700 है। इनमें से किसी को भी सरकार ने लैपटॉप नहीं दिया है। कॉलेज की छात्राओं को दो पहिया (स्कूटी) बिना ब्याज दिलाने का वादा वचन पत्र में है। लेकिन छात्राओं को स्कूटी नहीं मिलीं हैं।

5. कन्यादान: 471 को 2.40 करोड़ अभी तक नहीं मिले

शिवपुरी जिले में कन्यादान योजना के तहत अभी तक 969 शादियां हुईं हैं। जिसमें से 471 कन्याओं को शादी के बाद 2.40 करोड़ रुपए शासन से अभी तक नहीं मिले हैं। वहीं किसानों की बेटियाें की शादी पर 51 हजार रुपए देने का वादा था। लेकिन जिले में व्यक्तिगत किसानों का कोई रिकार्ड नहीं है।

4. बेरोजगारी भत्ता: 4000 की एंट्री, 25 युवाओं को ही मिला 2 माह का भत्ता

सरकार ने युवाओं को 4 हजार रुपए बेरोजगारी भत्ता देने का वादा किया था। 4 हजार युवाओं ने रजिस्ट्रेशन कराया। सिर्फ एक ही ट्रेनिंग डोमेस्टिक डाटा एंट्री ऑपरेटर की करा पाए। जिसमें 35 युवाओं से 25 की हाजिरी पूरी होने पर दो माह का भत्ता मिला है।

शिवपुरी शहर: शुद्ध जल तो दूर सिंध जलावर्धन योजना पूरी नहीं, सीवर प्रोजेक्ट काम भी अधूरा

वचन पत्र में कांग्रेस ने शुद्ध जल की आपूर्ति का वादा किया है। बात शिवपुरी शहर की करें तो लोगों को शुद्ध जल मिलना तो दूर सिंध जलावर्धन योजना का काम भी पूरा नहीं हो पाया है। वहीं शहरों को मल जल निकासी की व्यवस्था का वादा वचन पत्र में किया है। बात शिवपुरी की करें तो यहां सीवर प्रोजेक्ट को कमलनाथ सरकार साल भर में पूरा नहीं करा पाई है। जबकि शिवपुरी नगर पालिका के अध्यक्ष कांग्रेस पार्टी से हैं।

ये वादे भी सरकार एक साल में पूरे नहीं कर पाई

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here