बुदना नहर जगह-जगह से हुई क्षतिग्रस्त, किसानों के खेतों तक नहीं पहुंच रहा पानी

0
157

शिवपुरी Nov 20, 2019

क्षेत्र के किसानों का कहना है कि बुदना नहर से दो केनाल निकली है, जिसकी लंबाई 8 व 5 किमी है। दोनों केनाल की नहरों से 12 से अधिक गांवों के किसानों को सिंचाई के लिए पानी मिलता है। जिसमें नहर परियोजना के अधिकारियों के अनुसार टू केनाल में पानी छोड़ा गया व प्रथम केनाल में पानी जल्द छोड़ा जाएगा। वहीं किसानों का कहना है कि दोनों केनाल में से सबसे ज्यादा जर्जर प्रथम केनाल नहर की बनी हुई है। जिससे पानी छोड़ते ही किसानों के खेतों तक पानी पहुंचा संभव दिखाई नहीं दे रहा है। जिससे किसान चिंतित बने हुए हैं।

नहर का कई साल से नहीं हुआ जीर्णोद्धार

टेल एरिया के किसानों का कहना है कि नहर का कई साल से जीर्णोद्धार नहीं हुआ है, जिसके चलते हमें पलेवा के लिए पानी मिल पाना मुश्किल नजर आ रहा है। जबकि क्षेत्र की एकमात्र नहर है वह भी जगह-जगह से क्षतिग्रस्त हो गई है। हालात ये है कि नहर में जगह-जगह दरारें पड़ गई है। निर्माण के दौरान विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों और क्वालिटी कंट्रोल की टीम ने भी निर्माण कार्य का जायजा लिया था। इसके बाद नहर का अच्छा निर्माण नहीं हो सका था। किसानों का यह तक कहना है कि दिन-प्रतिदिर जर्जर होती जा रही है। इसके बाद भी वर्षों से इस नगर का मेंटेनेंस नहीं किया जा रहा है।

प्रतिवर्ष आता है मेंटेनेंस के लिए बजट

नहर परियोजना से जुड़े सूत्रों के मुताबिक नहर के मेंटेनेंस के लिए हर साल लाखों का बजट आता है। मगर नहर का मेंटेनेंस न होना समझ से परे है। किसानों की मानंे तो निर्माण कार्य के दौरान न तो नहर का मेंटेनेंस हुआ है और न ही नहर की सफाई की गई है, जिसके चलते नहर पूरी तरह से खराब हो गई है। किसानों के अनुसार इस नहर से न केवल खेतों तक पानी पहुंचने में परेशानी होगी बल्कि टूटी फूटी नहर से पानी भी ज्यादा बर्बाद होगा। किसानों का कहना है कि हमने अफसरों से लेकर जनप्रतिनिधि सबको अपनी फरियाद सुनाई, लेकिन किसी ने हमारी नहीं सुनी।

इन गांवों में होती है नहर से सिंचाई

क्षेत्र में एकमात्र बुदना नहर है। जिसकी दो केनाल है। जिनके माध्यम से एक दर्जन से अधिक गांवों के किसानों को सिंचाई के लिए पानी मिलता है। जिसमें प्रथम केनाल के गांव देवखो, ज्यौहरा, खनियांधाना, शिलपुरा, पोटयाई, कुंदोली है। वहीं दूसरी केनाल के गांव ग्राम टू कैनाल के गांव पारपुर, नयागांव, पटीरेमटी, ज्योतरी, बुखर्रा आदि गांव शामिल हैं।

खेतों तक नहीं पहुंच रहा है पानी


कई साल से नहीं हुई मरम्मत


मरम्मत की जा रही है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here