खरीफ सीजन में पहली बार सोयाबीन की क्वालिटी को लेकर बनाया पंचनामा

0
121

उज्जैन Nov 02, 2018

कृषि मंडी में सोयाबीन बिकने के बाद तौलकांटे पर क्वालिटी में अंतर आने पर गुरुवार को व्यापारी भड़क गए। उन्होंनेे इसकी शिकायत मंडी समिति कार्यालय में की। विरोध स्वरूप आधा घंटा (सुबह 9.30 से 10 बजे तक) नीलामी बंद रखी। मंडी सचिव ने मौके पर पहुंचकर पंचनामा बनाया। बुधवार को सोयाबीन बेचने वाले किसान से पत्र लिखवाया कि गलती से गीली सोयाबीन आ गई। आगे से ध्यान रखेंगे। इसके बाद नीलामी शुरू हो पाई। खरीफ सीजन में ऐसा पहली बार हुअा है जब व्यापारी ने सोयाबीन की क्वालिटी पर सवाल उठाए हों। दीपावली के नजदीक आते ही मंडी में सोयाबीन की आवक बढ़ती जा रही है। इसी बीच गुरुवार को सलामता गांव के देवीलाल 30 क्विंटल सोयाबीन लेकर आए। नीलामी में उन्हें 3181 रुपए प्रति क्विंटल के भाव मिले। सोयाबीन शांति ट्रेडर्स के संचालक दिलीप गुप्ता ने सोयाबीन खरीदी। उपज जब तौलकांटे पर पहुंची तो व्यापारी ने इस बात पर आपत्ति ली कि सोयाबीन की क्वालिटी में अंतर है। उन्होंने मंडी सचिव राजेश गोयल से शिकायत कर सौदा रद्द करने की बात कही। मंडी सचिव ने मौके पर पंचनामा बनाया। इसके बाद मंडी संचालन शोभाराम पाटीदार ने किसान को बुलाया और उससे पत्र लिखवाया। इसके बाद व्यापारी ने सोयाबीन को उसी भाव में तुलवाया।

तीन दिन में दूसरी बार मंडी बंद : तीन दिन में यह दूसरा मौका है जब मंडी की नीलामी बंद रखी गई। इसके पहले मंगलवार को मंडी कर्मचारी के साथ मारपीट होने पर कर्मचारियों ने एक घंटे के लिए नीलामी बंद कर दी थी। जिससे किसानों की उपज बिना बिके रह गई थी। उन्हें उपज बेचने के लिए अगले दिन का इंतजार करना पड़ा था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here