वीडियो फुटेज के आधार पर एनएच-146 पर चक्काजाम और मंडी परिसर में हंगामा करने वाले 26 किसानों पर एफआईआर

0
110

विदिशा| Nov 16, 2018

शहर में एक दिन पहले एनएच 146 पर चक्काजाम कर हंगामा करने वाले किसानों पर कोतवाली थाने में एफआईआर दर्ज की गई है। इनमें एक किसान विदिशा जिले के गांव करेला निवासी रवि सहित गदर करने वाले 25 अन्य किसानों के खिलाफ शहर के कोतवाली थाने में मामला दर्ज किया गया है। अन्य किसानों की अभी पहचान नहीं हो पाई है।

पुलिस वीडियो फुटेज देखकर गदर करने वाले किसानों की पहचान करने में जुटी है। हालांकि बुधवार को किसानों और व्यापारियों के बीच हुए विवाद के बाद भी धान की आवक पर कोई असर नहीं पड़ा। बल्कि बुधवार से अधिक धान की आवक गुरुवार को हुई।

जानकारी के मुताबिक धान की 650 ट्रालियां से अधिक आवक हुई है। इसके अलावा दिन भर किसानों और व्यापारियों के बीच कोई विवाद नहीं हुआ और आम दिनों की तरह ही धान की नीलामी हुई। नीलामी के दौरान वीडियो ग्राफी भी कराई गई। मंडी सचिव ने भी मौके पर पहुंचकर नीलामी का जायजा लिया।

बुधवार को किसानों आैर व्यापारियों के बीच विवाद हो गया था, जिसके बाद धान की नीलामी रोक दी गई थी

बुधवार को हुए विवाद के बाद दूसरे दिन कृषि मंडी में धान की हुई बंपर आवक।

पुलिस नहीं कर पाई नियंत्रण

मंगलवार को किसानों ने व्यापारी के साथ अभद्रता की। इसके बाद नाराज व्यापारियों ने नीलामी बंद कर दी थी। यह विवाद सुबह साढ़े ग्यारह बजे से शुरू हो गया था। दोपहर 12 बजे करीब किसानों ने एनएच 146 पर चक्काजाम कर दिया। जो सवा एक बजे तक चला। लेकिन जानकारी मिलने के बावजूद पुलिस घटना स्थल पर देरी से पहुंची। पूरे सवा घंटे में भी पुलिस चक्काजाम कर रहे किसानों को सड़क से नहीं हटा पाई।

एसडीएम को आया था गुस्सा

जब किसान अपनी मांगों को लेकर अड़े रहे और जोरदार नारेबाजी करते रहे। इस दौरान एसडीएम संजय उपाध्याय ने पहले तो किसानों की समस्याएं सुनी और इनके हल के लिए आश्वासन भी दिया, इसके बावजूद किसान नहीं मानें। इसको लेकर एसडीएम को गुस्सा आ गया और उन्होंंने बस चालक को बस चालू करके आगे बढ़ाने के लिए निर्देश दिए। जबकि पुलिस के अधिकतर जवान उनका मुंह ताकते रहे। इस दौरान किसान सड़क से हटने लगे थे। एसडीएम के कहने पर किसान मंडी के अंदर जाकर प्रशासन से बात करने के लिए तैयार हो गए थे।

ऊपर से शुरू होकर दस के गुणांक में लगेगी बोली

कृषि उपज मंडी समिति के सचिव उमेश बंसेड़िया के मुताबिक उन्होंने व्यापारियों की बैठक भी ली है। इसमें हम्मालों को दी जाने वाली मजदूरी व्यापारियों और किसानों द्वारा आधी-आधी दी जाने की बात कही गई है। वहीं धर्मकांटे से धान की तुलाई को लेकर भी चर्चा हुई है। यदि इस कांटे से तुलाई के लिए किसान सहमत होते हैं तो तुलाई में लगने वाले समय में भी कमी आ जाएगी। इसके अलावा नीलामी बोली ऊपर से शुरू कर दस के गुणांक में लगाई जाने के लिए निर्देशित किया गया है। वहीं तय समय पर किसानों को भुगतान करने के लिए भी निर्देश दिए गए हैं।

सवा घंटे एनएच 146 पर चक्काजाम

दोपहर 12 बजे किसान एनएच 146 भोपाल रोड पर आकर खड़े हो गए और नारेबाजी करने लगे। इसके बाद मौके पर कोतवाली पुलिस और एसडीओपी मुकेश चौबे पहुंचे। उन्होंने किसानों को समझाने का प्रयास किया, लेकिन किसान हाईवे से नहीं हटे। जब मामला गंभीर हो गए तो मौके पर एसडीएम संजय उपाध्याय को आना पड़ा। उन्होंने भी करीब 20 मिनट तक किसानों को समझाइश दी। पहले किसान नहीं माने लेकिन बाद में पुलिस ने उन्हें हाईवे की एक साइड में कर दिया।

गलती नहीं होने के बाद मांगना पड़ी माफी

अनाज व्यापारी मनोज सोनी ने बताया कि रोज की तरह धान की नीलामी में शामिल थे। करेला गांव के किसान रवि की धान 2851 रुपए प्रति क्विंटल के भाव से नीलाम हुई। इसके बावजूद उसने मेरे ऊपर धान फेंक कर मारी और अभद्रता किए। यह सब देख हमने नीलामी बंद कर दी। इसके बाद प्रशासन ने अभद्रता करने वाले किसान से ही मुझे माफी मांगने को कहा। मैने माफी भी मांग ली।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here