खेती, किसानी व पशुधन को बढ़ावा देना होगा- त्रिवेदी

0
102

अपने विचार रखती समाजसेवी आरती पटेल।

Oct 01, 2018

निमाड़ क्षेत्र को यदि बेहतर स्थिति में लाना है तो सबको मिलकर चिंतन मनन की प्रक्रिया को शुरू करना होगा। आज देश में समस्याओं का अंबार है लेकिन उनका निदान नजर नहीं आ रहा है।

रविवार को रेवा गुर्जर छात्रावास में निमाड़ महासंघ के आयोजित निमाड़ और बेहतर कैसे बने विषय पर आयोजित वैचारिक संगोष्ठी में वरिष्ठ अधिवक्ता अनिल त्रिवेदी ने यह बात कही। उन्होंने कहा आज कोई भी व्यक्ति सवाल नहीं उठा रहा है। इस स्थिति से देश को उबारना होगा। उन्होंने सुझाव दिया कि यदि निमाड़ के हालात बेहतर करना है तो खेती, किसानी व पशुधन के महत्व को बढ़ावा देना होगा। कृषि को स्वावलंबी बनाना होगा। भाकिसं के कोषाध्यक्ष सीताराम इंगला ने किसानों की समस्याओं पर प्रकाश डाला।

अध्यक्षता ताराचंद पटेल ने की। सचिन बिरला ने सुझाव दिया कि निमाड़ क्षेत्र में लघु उद्योगों को समूह के माध्यम से विकसित करने की आवश्यकता है। पर्यावरण विशेषज्ञ डॉ. सुरेश रांका ने कृषि में रासायनिक कीटनाशकों के अंधाधुंध उपयोग पर गहरी चिंता व्यक्त की। समाजसेवी डॉ. प्रवीण अधिकारी ने निमाड़ क्षेत्र में खाद्य प्रसंस्करण उद्योग की स्थापना की आवश्यकता पर जोर दिया और इंदौर-इच्छापुर राजमार्ग की दुर्दशा को आपराधिक लापरवाही बताया।

समाजसेवी आरती पटेल ने महिला सशक्तिकरण पर जोर दिया। संजय रोकड़े, जाकिर हुसैन अमि, संजय गेहलोद, विवेक विद्यार्थी, संजय बिरला, शोभाग पटेल आदि उपस्थित थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here