12 किसानों ने लगवाए सोलर पंप, सुबह 8 से शाम 5 बजे तक बिना बैटरी के होगी सिंचाई

0
135

निवाली | Oct 05, 2018

ब्लाक में 12 किसानों ने सोलर पंप लगवाए हैं। इससे बिना बैटरी के सुबह 8 से शाम 5बजे तक किसान सिंचाई कर सकेंगे। इसका मेंटेनेंस भी शून्य है। इससे किसानों के बिजली बिल के रुपए बचेंगे। किसानों को लाभ होगा। कृषि विभाग के कृषि विस्तार अधिकारी संजय जोशी ने बताया केंद्र सरकार ने किसानों की आय दो गुनी करने का लक्ष्य रखा है। इसके तहत 2022 तक किसानों की आय दो गुनी करना है। इसके लिए मप्र में मुख्यमंत्री सोलर पंप योजना किसानों के लिए चल रही है। ब्लॉक में 12 किसानों ने योजना का लाभ लिया है। सभी 12जगह सोलर पंप लगने का काम अंतिम चरण में चल रहा है।

इससे किसानों को उन्नत बनाने के लिए केंद्र व राज्य सरकारों ने मिलकर यह योजना लागू की है। इस योजना में किसानों को सरकार की तरफ से 85फीसदी अनुदान दिया जा रहा है। वर्तमान में ब्लाॅक में 12 किसानों के खेतों पर सोलर पंप लगाने का कार्य किया जा रहा है। इन किसानों के नतीजे देखने के बाद अधिक किसानों को सोलर पंप योजना का लाभ लेने के लिए प्रेरित करेंगे। ताकि किसानों के बिजली बिल के रुपए बच सकें। साथ ही उन्हें सिंचाई के लिए 24 घंटे पर्याप्त बिजली मिल सके।

इस योजना का लाभ लेने के लिए किसानों को ऑन लाइन रजिस्ट्रेशन करना होता है। रजिस्ट्रेशन के साथ ही 5हजार रुपए की डीडी बनाकर देना होती है। इसके बाद नाम आने पर कृषि विभाग में नाम की लिस्ट आ जाती है। फिटिंग वाले ठेकेदारों द्वारा फिटिंग की जा रही है। फिटिंग से पहले हितग्राही को 67 हजार रुपए का भुगतान करना होता है।

कुमसिंह बर्डे ग्राम जामन्या के खेत में इस तरह से लग रहा सोलर पंप।

किसानों को जागरूक कर प्रेरित कर रहे

कृषि अधिकारी ने बताया किसानों को योजना का लाभ लेने व सोलर पंप लगवाने के लिए आवेदन करने के लिए जागरूक कर रहे हैं। साथ ही उन्हें योजना का लाभ लेने के लिए प्रेरित कर रहे हैं। उन्होंने बताया तीन हार्स पाॅवर के मोटर पंप एसी व डीसी करंट से चलते हैं। जबकि 5 व इससे ज्यादा हार्स पाॅवर के मोटर पंप केवल डीसी करंट से चलते हैं। उन्होंने बताया सोर पैनल हमेशा दक्षिण दिशा में 45 डिग्री के कोण में झुके हुए ही लगाए जाते हैं। सूर्य ऊर्जा को विधुत ऊर्जा में परिवर्तित कर मोटर पंप चलाए जाते हैं।

शासकीय कार्यालयों में भी लगेंगे सोलर पैनल

कृषि अधिकारी ने बताया जल्द ही नगर के कॉलेज, तहसील कार्यालय, अस्पताल सहित अन्य सरकारी कार्यालयों में भी सोलर पैनल सिस्टम लगाने की लक्ष्य है। ताकि बिजली की बचत हो सके और वैकल्पिक ऊर्जा का अधिक से अधिक उपयोग किया जा सके। इससे लोगों को भी फायदा होगा। बिजली के अभाव में बंद होने वाले काम बंद नहीं होंगे। 24 घंटे बिजली उपलब्ध रहेगी।

मोबाइल से बंद व चालू कर सकेंगे मोटर

अभी जो मोटर पंप लगाए जा रहे हैं। इनमें तो स्विच से ही बंद व चालू करना होगा। लेकिन आगे मोबाइल की सिम से कनेक्ट कर घर बैठे ही किसान मोबाइल से मोटर बंद व चालू कर सकेंगे। इससे किसानों को बार-बार मोटर के पास आने की जरूरत नहीं होगी। किसानों का समय बचेगा।

बिना बैटरी के 9 घंटे होगी सिंचाई

कृषि अधिकारी ने बताया इन सोलर पंप में बिना बैटरी के सुबह 8 बजे से शाम 5 बजे तक मोटर से सिंचाई की जा सकेगी। यानि 9 घंटे तक किसान बिना किसी खर्च के फसलों की सिंचाई कर सकते हैं। यदि जिस किसान को रात में भी मोटर चलाना है। इसे सोलर प्लेट से बैटरी का कनेक्शन करना होगा। इससे वह रात में भी सिंचाई कर सकेंगे। सिंचाई के अलावा खेत पर पर्याप्त मात्रा में रोशनी भी जा सकती है।

जहां बिजली नहीं वहां ज्यादा उपयोगी है सोलर पंप

सोलर पंप से कई लाभ हैं। जहां बिजली नहीं पहुंची है। वहां पर सोलर पंप ज्यादा उपयोगी है। सोलर पंप लगाने के बाद बिजली पर निर्भर नहीं रहना पड़ेगा। किसानों को बिजली पंप या डीजल पंप में बिजली का बिल भरना होता है। या डीजल का खर्च लगता है। सोलर पंप लगवाने से किसानों को बिजली व डीजल के खर्च से मुक्ति मिलेगी। इससे किसानों की आय बढ़ेगी। साथ ही समय पर फसल को पानी मिल सकेगा। इससे फसलों की पैदावार बढ़ेगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here