आरबीआई – खेती के लिए गारंटी फ्री कर्ज की सीमा 60 हजार बढ़ाई गई, अब लिमिट 1.60 लाख रुपए

0
376
  • मौद्रिक नीति की समीक्षा में आरबीआई ने यह फैसला लिया, पहले 1 लाख रुपए थी लिमिट
  • 9 साल बाद यह लिमिट बढ़ाई गई, आरबीआई ने महंगाई और लागत बढ़ने का ध्यान रखा

मुंबई. रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (आरबीआई) ने किसानों के लिए कॉलेटरल फ्री लोन की लिमिट 1 लाख रुपए से बढ़ाकर 1.60 लाख रुपए कर दी है। यानी, अब किसानों को 1.60 लाख रुपए तक का लोन लेने के लिए कोई गारंटी देने की जरूरत नहीं होगी। आरबीआई ने गुरुवार को इसका ऐलान किया। इस फैसले से खासकर उन किसानों को फायदा हो, जिनके पास खेती योग्य जमीन नहीं है।

किसानों के लिए गारंटी फ्री लोन की लिमिट 2010 में 1 लाख रुपए फिक्स की गई थी। आरबीआई ने महंगाई बढ़ने और किसानों की लागत बढ़ने का ध्यान रखते हुए लिमिट बढ़ाने का फैसला लिया है। गारंटी फ्री लोन की लिमिट बढ़ाने का सर्कुलर जल्द जारी किया जाएगा। एग्रीकल्चर लोन से जुड़े मामलों को देखने के लिए वर्किंग ग्रुप का गठन भी किया जाएगा।

7 दिन में किसानों के लिए दूसरा बड़ा ऐलान
सरकार ने 1 जनवरी को बजट में ऐलान किया था कि 5 एकड़ तक की खेती योग्य जमीन वाले किसानों को सालाना 6 हजार रुपए दिए जाएंगे। यह रकम 2-2 हजार की तीन किश्तों में किसानों के खाते में जमा की जाएगी। पहली किश्त मार्च से पहले दी जाएगी। यह घोषणा भी की गई थी कि पशु पालन-मत्स्य पालन करने वाले किसानों को किसान क्रेडिट कार्ड से लिए गए कर्ज पर ब्याज में 2% की छूट दी जाएगी। आपदा की स्थिति में जहां एनडीआरएफ की तैनाती होगी, वहां सभी किसानों को फसल ऋण पर ब्याज में 2% की छूट मिलेगी। कर्ज री-शेड्यूल होने के बाद समय पर कर्ज लौटाने पर ब्याज में 3% की अतिरिक्त छूट मिलेगी। इस तरह 5% की छूट मिल सकेगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here