बारिश की वजह से खेतों का पानी नहीं सूखा जिससे फसल तो खड़ी है, लेकिन दाना नहीं

0
136

सिरोंज | Sep 19, 2018

भादौ के महीने में लगातार हुई बारिश की वजह से क्षेत्र के कई इलाकों में उड़द की फसल बर्बाद हो गई है। मंगलवार को अनेक किसान बर्बाद फसल का सर्वे करवाने की मांग को लेकर तहसील कार्यालय में पहुंचे। इस दौरान किसानों ने तहसीलदार को एक ज्ञापन भी सौंपा।

सावन और भादौ के महीने में क्षेत्र में कभी तेज तो कभी रिमझिम बारिश का सिलसिला लगातार चलता रहा। हालात ऐसे भी बने की एक पखवाड़े तक तो लोगों को सूर्य नारायण के दर्शन तक नहीं हो सके। मौसम का यह मिजाज खरीफ की फसल के लिए नुकसानदायक रहा। उड़द की फसल तो खेतों में ही गलने लगी थी। सप्ताह भर पहले जब मौसम साफ हुआ तो किसानों ने राहत की सांस ली। अधिकांश किसानों की उड़द की फसल बर्बाद हो गई है। मंगलवार को क्षेत्र के अनेक किसान फसल बर्बाद होने की शिकायत लेकर तहसील कार्यालय में पहुंचे। जनपद सदस्य प्रतिनिधि कलेक्टर यादव के नेतृत्व में तहसीलदार के पास अपनी शिकायत लेकर पहुंचे। ये किसान क्षेत्र के गांव गेहूंखेड़ी, धमउखेड़ी, सेमलखेड़ी, कर्राखेड़ी, चौपना, बडेरा, भोजपुर, भौंरा, बाबुलखेड़ी, दुरंग, बरेंडा और कल्याणपुर से आए थे। किसानों का कहना था कि भादौ के महीने में लगातार रिमझिम बारिश की वजह से खेतों का पानी नहीं सूख सका। इस वजह से फसल गल गई। इसके बाद मौसम तो खुल गया लेकिन तब तक फसल कटने की स्थित में आ गई। अब हालात ऐसे हैं कि खेतों में फसल खड़ी तो है लेकिन उसमें दाना नहीं है। पौधों की 90 प्रतिशत फली खाली है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here